जगन ने दिया कांग्रेस को झटका

जगन मोहन
Image caption जगन मोहन के समर्थकों ने कांग्रेस के उम्मीदवारों को हराने में मुख्य भूमिका निभाई है.

आंध्र प्रदेश में सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी को बागी नेता वाईएस जगन मोहन रेड्डी के हाथों ज़बरदस्त मात उठानी पड़ी है.

विधान परिषद् की नौ सीटों के लिए स्थानीय मंडलों से जो चुनाव हुए थे उन में से तीन पर जगन के समर्थकों को जीत मिली है जबकि कांग्रेस पार्टी केवल तीन सीटें ही जीत सकी है. शेष तीन सीटों पर मुख्य विपक्षी दल तेलुगु देशम को सफलता मिली है.

कांग्रेस को सबसे ज्यादा इस बात से शर्मिंदगी हुई है कि मुख्यमंत्री किरण कुमार रेड्डी के गृह जिले चित्तूर में भी जगन ग्रुप के समर्थक टिप्पा रेड्डी ने कांग्रेस के प्रत्याशी नरेश कुमार को हरा दिया. हालाँकि जीत केवल दो वोटों के अंतर से हुई है लेकिन कांग्रेस को हार का सदमा सहना पड़ा है.

जगन के समर्थकों ने कडप्पा और पश्चिमी गोदावरी ज़िलों में भी सफलता प्राप्त की है.

दूसरी और कांग्रेस को श्रीकाकुलम, नेल्लोर और करनूल ज़िलों में सफलता मिली है जबकि तेलुगु देशम को अनंतपुर, पूर्वी और पश्चिमी गोदावरी जिलों में कामयाबी मिली है.

कांग्रेस को इस बात से भी धक्का पहुंचा है कि उसके अंदरूनी मतभेदों के चलते अनंतपुर ज़िले में उसके प्रत्याशी को हारना पड़ा है. राज्य के राजस्व मंत्री एन रघुवीरा रेड्डी ने इस हार के लिए ज़िले के वरिष्ठ नेता जेसी दिवाकर रेड्डी को जिम्मेदार ठहराया है.

जगन मोहन रेड्डी नेजल्द ही वाईएसआर कांग्रेस के नाम से अपनी पार्टी स्थापित करने वाले हैं. जगन मोहन ने अपने दिवंगत पिता राजशेखर रेड्डी के नाम पर वोट मांगे थे और पार्टी के ज़िला परिषद् और मंडल परिषद् सदस्यों से कहा था कि वो कांग्रेस को नहीं बल्कि उनके उम्मीदवारों को वोट दें.

हालाँकि गत सप्ताह विधान सभा से विधान परिषद् की 10 सीटों के लिए जो चुनाव हुए थे उसमें जगन ग्रुप कांग्रेस को कोई नुकसान नहीं पहुंचा सका लेकिन स्थानीय मंडलों में जगन के समर्थकों ने कांग्रेस को ज़बरदस्त धक्का पहुंचाया है.

जैसे ही चुनाव नतीजों की खबर फैली, जगन के समर्थकों ने हैदराबाद, कडप्पा, चितूर और एलुरु सहित कई स्थानों पर ज़बरदस्त जश्न मनाया.

जगन के समर्थक एक वरिष्ठ नेता ए रामबाबू ने कहा कि यह परिणाम आने वाले समय का एक संकेत है कि किस तरह वाईएसआर कांग्रेस, कांग्रेस पार्टी को उखाड़ फेंकेगी.

दूसरी और तेलुगु देशम ने भी इन परिणामों पर ख़ुशी व्यक्त की है और कहा है कि कांग्रेस और जगन के बंटवारे से उसे फायदा पहुंचा है.

संबंधित समाचार