इतिहास के पन्नों से...

पोप जॉन पॉल द्वितीय इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption पोप जॉन पॉल द्वितीय का 84 वर्ष की आयु में निधन हुआ.

इतिहास में दो अप्रैल की तारीख़ मिली-जुली घटनाएं संजोए है. इस दिन जहां पोप जॉन पॉल द्वितीय का निधन हुआ वहीं भारत के उत्तर-पूर्वी राज्य मेघालय को स्वायत्तशासी राज्य का दर्जा मिला.

अप्रैल 2005: पोप द्वितीय का निधन

दो अप्रैल 2005 को पोप जॉन पॉल द्वितीय का निधन हो गया था. सबसे लंबे समय तक वैटिकन का सर्वोच्च पद संभालने वालों में से एक पोप जॉन पॉल द्वितीय ने 84 वर्ष की आयु में वैटिकन के एक निजी अपार्टमेंट में अपने क़रीबी सहयोगियों के बीच अंतिम सांस ली थी. पोप के निधन के बाद उन्हें अंतिम विदाई देने के लिए रोम के सेंट पीटर्स स्क्वेयर पर हज़ारों की संख्या में श्रद्धालु जमा हुए थे और इस दिन चर्च की घंटी सुबह से शाम तक बजती रही थी.

फॉकलैंड पर अर्जेंटीना का हमला

Image caption फॉकलैंड पर अर्जेंटीना का हमला

दो अप्रैल 1982 को अर्जेंटीना ने दक्षिणी अटलांटिक महासागर में स्थित फॉकलैंड द्वीप समूह पर हमला कर दिया था. अर्जेंटीना तट से सटे इस द्वीपसमूह को ब्रिटेन ने 1833 में अपने कब्जे में ले लिया था और तभी से इस पर अधिकार को लेकर दोनों देशों के बीच तनाव था. दो अप्रैल के हमले के बाद दोनों देशों के बीच करीब दो महीने तक लड़ाई चलती रही थी और आखिर में अर्जेंटीना की पराजय हुई थी और उसे अपनी सेना हटा लेनी पड़ी थी.

मेघालय बना स्वायत्त राज्य

दो अप्रैल 1970 को 'असम पुनर्गठन अधिनियम' के तहत भारत के उत्तर-पूर्व में मेघालय को स्वायत्तशासी राज्य का दर्जा हासिल हुआ था. संस्कृत शब्द मेघालय का अर्थ होता है बादलों का घर। इस राज्य का गठन असम के ही दो जिलों संयुक्त गारो और जयन्तिया और खासी हिल्स को मिलाकर किया गया था. संविधान की छठी अनुसूची के अंतर्गत नवगठित मेघालय राज्य का एक विधानमंडल भी बनाया गया था जिसके 37 सदस्य थे। 21 जनवरी 1971 को मेघालय को पूर्ण राज्य का दर्जा हासिल हुआ था.

संबंधित समाचार