धोनी हैं सर्वश्रेष्ठ कप्तान: सचिन

  • 4 अप्रैल 2011
कप के साथ सचिन - इमेज कॉपीरइट Reuters

दुनिया भर के खिताबों से अपनी झोली भरने वाले सचिन तेंदुलकर का कहना है कि जितने कप्तानों के साथ वे खेल चुके हैं उनमें महेन्द्र सिंह धोनी सर्वश्रेष्ठ कप्तान हैं.

टीम इंडिया के कप्तान की तारीफ करते हुए सचिन ने कहा कि धोनी रणनीति बनाने में माहिर और चुस्त कप्तान हैं.

2011 का विश्व कप जीतने के बाद सचिन तेंदुलकर ने सोमवार को मुंबई में प्रेस कांफ्रेंस में भारतीय टीम के सभी खिलाड़ियों समेत देश के सभी लोगों का धन्यवाद किया.

संवाददाताओं के सवालों का जवाब देते हुए सचिन ने कहा कि यह जीत पूरी टीम की मेहनत का फल है. अकेला कोई विश्वकप नहीं हासिल कर सकता है. उन्होंने कहा खेलते समय हर खिलाड़ी का ध्यान इसी पर रहता है कि वह कैसे और बेहतर कर सकता है.

सचिन ने कहा कि विश्वकप जीतना उनके जीवन का सपना था और वो आखिरकार पूरा हुआ. सचिन ने कहा वह दिन आ गया जिस मुकाम को हासिल कर पूरी टीम गौरवान्वित महसूस कर रही है.

सचिन ने कहा, "दो अपैल मेरे जीवन का सबसे महत्वपूर्ण दिन है. हम सभी खिलाड़ी एक दूसरे के लिए खेले. सबसे बड़ी बात तो यह है कि हम देश के लिए खेले."

संन्यास अभी नहीं

सचिन ने कहा कि उन्हें 1987 विश्व कप का वो दिन आज भी याद है कि जब वो एक बाल ब्वॉय थे और सुनील गावस्कर ने उन्हें ड्रेसिंग रूम ले जाकर सारे खिलाड़ियों से मिलवाया था.

ब्लॉग: पूरा हुआ ख़्वाब

संन्यास लेने के सवाल पर सचिन ने सारी अटकलों पर विराम लगाते हुए कहा कि ये वक्त देश के लिए जश्न मनाने का है न कि इस बारे में सोचने का .

सचिन ने टीम इंडिया के कप्तान की तारीफ तो की ही , कोच गैरी कस्टर्स के योगदान की भी सराहना की.

उन्होंने कहा कि गैरी ने भी खिलाड़ियों के साथ कड़ी मेहनत की और वो चाहते हैं कि गैरी आगे भी काम करें, लेकिन अब वो अपने परिवार के साथ समय बिताना चाहते हैं . पूरी टीम को उनकी कमी महसूस होगी.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार