सत्य साईं बाबा की हालत नाज़ुक

सत्य साईंबाबा इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption सत्य साईं बाबा के भक्त बड़ी संख्या में पुट्टपर्ति में इकट्ठे हो रहे हैं

आंध्र प्रदेश चर्चित धार्मिक गुरु सत्य साईं बाबा की हालत अभी भी नाज़ुक बनी हुई है.

इस बीच उनके स्वास्थ्य को लेकर अफवाहों की वजह से उन के आश्रम के नगर पुट्टपर्ति में तनाव काफ़ी बढ़ गया है और पुलिस को वहां निषेधाज्ञा लागू करनी पड़ी है. 'श्री सत्य साईं सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल' के निदेशक एएन सफ़ाया ने कहा है कि 85 वर्षीय साईं बाबा की हालत कल की तुलना में कुछ बेहतर हुई है.

उन्होंने कहा कि बाबा का ब्लड प्रेशर और हृदय की गति सामान्य है लेकिन गुर्दे ठीक तरह से काम नहीं कर रहे हैं जिसके कारण डॉक्टरों को डायलिसिस करना पड़ रहा है.

डॉक्टरों के अनुसार सत्य साईं बाबा अभी भी कृत्रिम सांस देने वाली मशीन यानी वेंटिलेटर पर हैं.

सत्य साईं बाबा इस अस्पताल में गत 28 मार्च से भर्ती हैं.

हिंसा और अपील

पुट्टपर्ति में सरकार को अतरिक्त पुलिस दल तैनात करने पड़े हैं क्योंकि भक्तों की भीड़ हिंसा पर उतर आई है.

कुछ लोगों ने अधिकारियों और पत्रकारों की गाड़ियों को निशाना बनाया है.

उन्होंने अनंतपुर ज़िला प्रशासन के प्रमुख जनार्दन रेड्डी को भी वहां से लौट जाने पर मजबूर कर दिया.

हैदराबाद में मुख्यमंत्री किरण कुमार रेड्डी ने एक उच्च स्तरीय बैठक में मंत्रियों और अधिकारियों के साथ स्थिति का आकलन किया है और पुट्टपर्ति में बढ़ती हुई भक्तों की संख्या और तनाव के मद्देनज़र ज़रूरी कदम उठाने के आदेश दिए हैं.

उधर राज्य की भारी उद्योग की मंत्री डॉ गीता रेड्डी ने पुट्टपर्ति में ही पड़ाव डाल रखा है.

उन्होंने कहा है कि बाबा ने आँख खोली है और लोगों से इशारे में बात कर रहे हैं. उन्होंने भक्तों से अपील की है कि वे बाबा के स्वास्थ्य के बारे में अफ़वाहों पर ध्यान न दें.

विशेषज्ञों का एक मेडिकल दल भी राज्य सरकार की ओर से वहां भेजा गया है जिसकी अगुवाई राज्य सरकर के मेडिकल विभाग के सचिव डॉ पीवी रमेश कर रहे हैं.

यह दल सत्य साईं अस्पताल के डॉक्टरों के साथ मिलकर साईं बाबा की चिकित्सा कर रहा है.

पुट्टपर्ति में जमा हज़ारों भक्त मांग कर रहे हैं कि उन्हें बाबा को देखने की अनुमति दी जाए क्योंकि उन्हें डॉक्टरों की बात पर भरोसा नहीं है. इस मांग के जवाब में राजस्व मंत्री रघुवीरा रेड्डी ने कहा, "साईं बाबा की हालत को गोपनीय रखने का कोई कारण नहीं है और डॉक्टर लोगों को सही जानकारी दे रहे हैं."

डॉक्टर सफ़ाया ने कहा कि किसी को भी इंटेंसिव केयर यूनिट में जाने नहीं दिया जा रहा है क्योंकि इससे बाबा को इन्फेक्शन हो सकता है.

नेता पहुँचे

इस बीच महाराष्ट्र के भूतपूर्व मुख्यमंत्री अशोक चौहान सहित कई बड़े नेता बाबा का हाल जानने के लिए पुट्टपर्ति पहुँच गए हैं.

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम करूणानिधि ने एक संदेश भेजकर बाबा के स्वस्थ होने की कामना की है.

उन्होंने चेन्नई के नागरिकों को पीने का पानी उपलब्ध करवाने में बाबा के योगदान को याद करते हुए आशा व्यक्त की है कि बाबा जल्द ही स्वस्थ होकर अपने आश्रम लौट जाएँगे और लोगों की सेवा जारी रखेंगे.

संबंधित समाचार