संयुक्त समिति की बैठक अगले हफ़्ते

  • 9 अप्रैल 2011
किरन बेदी और अन्ना हज़ारे इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption अन्ना हज़ारे जंतर मंतर पर अपने समर्थकों को गज़ट अधिसूचना दिखाते हुए.

लोकपाल बिल का मसौदा तैयार करने के लिए नवगठित संयुक्त समिति की पहली बैठक अगले हफ़्ते हो सकती है.

संयुक्त ड्राफ़्टिंग समिति के संरक्षक और केंद्रीय क़ानून मंत्री वीरप्पा मोइली ने पीटीआई को बताया, "संयुक्त ड्राफ़्टिंग समिति की पहली बैठक 16 अप्रैल को तय है. लेकिन ये एक अस्थाई तारीख़ है और सदस्यों की उपलब्धता पर निर्भर करती है."

ये पूछे जाने पर की क्या सिविस सोसाइटी की मांग मानते हुए गज़ट के ज़रिए अधिसूचना जारी कर सरकार झुक गई है, मोइली ने कहा कि इसे एक की जीत या दूसरे की हार के रूप में नहीं देखा जा सकता.

वीरप्पा मोइली ने कहा, "राष्ट्र हित में हमें मिलकर काम करने की ज़रुरत है. सिविल सोसाइटी और सरकार के बीच कोई मतभेद नहीं हैं. साझा मक़सद लोकपाल बिल को लाना है."

केंद्रीय क़ानून मंत्री ने कहा कि कांग्रेस जन आंदोलनों के ख़िलाफ़ नहीं है क्योंकि उसका विकास भी ऐसे की आंदोलनों के ज़रिए हुआ है.

गज़ट अधिसूचना

इससे पहले आज सुबह सरकार ने भ्रष्टाचार विरोधी कार्यकर्ताओं की मांग पर लोकपाल बिल ड्राफ़्टिंग समिति के गठन की गज़ट अधिसूचना जारी की.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption अन्ना हज़ारे भी संयुक्त ड्राफ़्टिंग समिति के सदस्य होंगे.

गज़ट अधिसूचना पर क़ानून मंत्रालय के विधायी विभाग के सचिव वीके भसीन के हस्ताक्षर हैं.

किरन बेदी ने लोगों की तालियों के बीच गज़ट को जंतर मंतर में लोगों के सामने पेश किया.

संयुक्त ड्राफ़्टिंग समिति में सरकार की तरफ़ से वीरप्पा मोइली, कपिल सिब्बल, पी चिदंबरम और सलमान ख़ुर्शीद शामिल हैं. पांचवे सरकारी नुमाइंदे वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी इस समिति अध्यक्ष होंगे, जबकि सिविल सोसाइटी के नुमाइंदे और पूर्व क़ानून मंत्री शांति भूषण समिति के सह-अध्यक्ष होंगे.

सिविल सोसाइटी की तरफ़ से प्रशांत भूषण, अरविंद केजरीवाल, अन्ना हज़ारे और संतोष हेगड़े संयुक्त समिति के सदस्य होंगे.

गज़ट अधिसूचना में लिखा गया है कि संयुक्त ड्रॉफ़्टिंग समिति इस वर्ष 30 जून तक अपना कार्य पूरा कर लेगी.

अन्ना ने तोड़ा अनशन

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption अन्ना हज़ारे, " ये महज़ एक शुरूआत है. अगर सरकार बिल पारित नहीं करती है तो मैं दोबारा संघर्ष करने के लिए यहां आऊंगा. "

शनिवार सुबह सरकारी अधिसूचना के बाद सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हज़ारे ने पांचवे दिन अपना अनशन ख़त्म कर दिया.

दिल्ली के जंतर मंतर पर कई समर्थकों की मौजूदगी में अन्ना हज़ारे ने एक बच्ची के हाथ निंबु पानी पीकर अपना अनशन समाप्त किया.

इसके बाद अन्ना हज़ारे ने वहां मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि ये लोगों की जीत है और असली लड़ाई तो अब शुरू होगी.

लोकपाल बिल को पारित के लिए 15 अगस्त तक का समय देते हुए अन्ना हज़ारे ने कहा, " ये महज़ एक शुरूआत है. अगर सरकार बिल पारित नहीं करती है तो मैं दोबारा संघर्ष करने के लिए यहां आऊंगा. "

अन्ना हज़ारे ने कहा कि वो भ्रष्टाचार के विरुद्ध अभियान पर ही नहीं रुकने वाले. उन्होंने कहा कि वे भविष्य में 'राइट टू रिकॉल' जैसे चुनावी सुधारों के लिए भी संघर्ष छेड़ेंगे.

संबंधित समाचार