'भारत में स्वास्थ्य सेवाएं बेहतरीन'

  • 21 अप्रैल 2011
अस्पताल इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption भारत के कई अस्पतालों में विदेशी नागरिक इलाज़ करवाने के लिए आते हैं.

भारत में स्वास्थ्य सेवाएं सस्ती होने के अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की टिप्पणी पर भारत सरकार और मेडिकल हलकों में कड़ी प्रतिक्रिया हो रही है.

भारत के स्वास्थ्य मंत्री गुलाम नबी आज़ाद ने कहा है कि भारत सस्ती स्वास्थ्य सेवाएं नहीं देता बल्कि उनकी सुविधाएं लोगों के बजट में होती हैं और उसकी क्वालिटी से कोई समझौता नहीं किया जाता.

विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी ने अमरीका पर रक्षात्मक नीतियां अपनाने का आरोप लगाया है.

जाने माने सर्जन नरेश त्रेहन ने भी ओबामा के बयान पर आपत्ति जताई है और कहा है कि भारत में स्वास्थ्य सुविधाओं का स्तर अमरीका के बराबर है और उससे अच्छा भी है.

ओबामा ने वाशिंगटन में अपने एक भाषण में कहा है कि वो नहीं चाहते कि अमरीका के लोग अपने इलाज के लिए मेक्सिको और भारत जैसे देशों में जाएं जहां स्वास्थ्य सेवाएं सस्ती हैं.

उनका कहना था, ‘‘ मैं नहीं चाहूंगा कि आपको स्वास्थ्य सेवाओं के लिए मेक्सिको या भारत न जाना पड़े जहां ये सुविधाएं सस्ती हैं. मैं चाहूंगा कि आपको ये उच्च स्तरीय सुविधाएं यहीं अमरीका में ही मिलें.’’

नाराज़गी

भारत के स्वास्थ्य मंत्री अमरीकी राष्ट्रपति के इस बयान से काफ़ी नाराज़ दिखे.

गुलाम नबी आज़ाद का कहना था, ‘‘ जो लोगों के बजट में हो ऐसी स्वास्थ्य सुविधा या ये मतलब नहीं है कि हमारी सुविधाएं किसी भी हिसाब से किसी सुपरपावर से कम है. हमारी दवाईंयां देसी हैं. बेहतरीन हैं लेकिन बेहतरीन होने का ये मतलब नहीं कि उनके दाम आसमान छूते हैं.’’

उन्होंने कहा कि कई देश दवाईयों की क़ीमतें बढ़ा रहे हैं जबकि भारत ने दवाईयों की क़ीमतें नहीं बढ़ाई हैं. उनका कहना था कि भारत दवाईयों में मुनाफ़ा कमाने जैसा घटिया काम नहीं करता.

आज़ाद ने कहा कि दुनिया के कई देश भारत की स्वास्थ्य सुविधाओं और इसके आम लोगों के बजट में होने की तारीफ़ करते हैं.

भारतीय जनता पार्टी की प्रवक्ता निर्मला सीतारामन का कहना था कि ओबामा का बयान उनकी रक्षात्मक नीतियों को दर्शाता है.

उन्होंने कहा, ‘‘ मैं उम्मीद करती हूं कि अमरीका अपनी स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार करेगा. मुझे लगता है कि ओबामा यही बात रेखांकित करना चाहते हैं. मैं उम्मीद करती हूं कि अमरीका रक्षात्मक नीतियां नहीं अपनाएगा जिससे अमरीका के लोगों को प्रत्यक्ष या परोक्ष रुप से स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए भारत आने में परेशानी हो.’’

जाने माने सर्जन त्रेहन का कहना था कि अगर ओबामा भी अमरीका में ऐसी स्वास्थ्य सेवा बहाल करें जो वहां के लोगों के बजट में हो तो बहुत अच्छा होगा.

त्रेहन का कहना था, ‘‘ ओबामा के बयान पर यही कह सकता हूं कि भारत में स्वास्थ्य सुविधाएं बेहतरीन है जो अमरीका के बराबर है या बेहतर हैं.अमरीका के लोग इसलिए नहीं आते भारत क्योंकि यहां इलाज सस्ता है बल्कि यहां कम पैसे में बेहतरीन क्वालिटी का इलाज होता है.’’

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार