हज़ारों पहुँचे साईंबाबा को श्रद्धांजलि देने

  • 25 अप्रैल 2011
साईंबाबा का पार्थिव शरीर इमेज कॉपीरइट BBC World Service

आंध्र प्रदेश के पुट्टपर्ति में हज़ारों लोग चर्चित आध्यात्मिक गुरु सत्य साईंबाबा के अंतिम दर्शन के लिए एकत्रित हो रहे हैं.

वहाँ सत्य साईंबाबा के आश्रम में उनका पार्थिव शरीर एक पारदर्शी बक्से में आम लोगों के अंतिम दर्शन के लिए रखा गया है.

लंबी बीमारी के बाद 85 वर्षीय सत्य साईंबाबा का रविवार की सुबह निधन हो गया था. डॉक्टरों का कहना है कि उनके शरीर के कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया था.

भारत और पूरी दुनिया में सत्य साईंबाबा के लाखों भक्त हैं. जिनमें वरिष्ठ राजनीतिज्ञ, व्यावसायी और उद्योगपति, फ़िल्मी कलाकार और कई शीर्ष खिलाड़ी, सेना और न्यायपालिका के वरिष्ठ लोग शामिल हैं.

लेकिन अपने जीवन काल में लोकप्रियता के अलावा कथित चमत्कारों और कथित यौन शोषण के आरोपों की वजह से वे विवादों में भी रहे.

श्रद्धांजलि

जिन दिनों सत्य साईंबाबा अस्पताल में थे और उनकी हालत लगातार बिगड़ रही थी, उनके भक्तों का पुत्तपर्ति पहुँचना शुरु हो गया था.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption साईंबाबा के भक्त रविवार की शाम से ही उनके अंतिम दर्शन के लिए उमड़ पड़े

रविवार की सुबह जब उनके निधन की ख़बर आई तो पुत्तपर्ति में बाहर से आए भक्तों की संख्या 25 हज़ार से अधिक थी.

कहा जा रहा है कि अब देश-दुनिया से लाखों लोग सत्य साईंबाबा को अंतिम श्रद्धांजलि देने के लिए पहुँचेंगे. जिसमें कई बड़ी हस्तियाँ शामिल हैं.

आंध्र प्रदेश सरकार ने सत्य साईंबाबा के निधन पर चार दिनों के राजकीय शोक की घोषणा की है और भारत की राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के अलावा सभी राजनीतिक दलों के नेताओं ने उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है.

जैसा कि सत्य साईंबाबा ट्रस्ट और आंध्र प्रदेश सरकार ने मिलकर तय किया है सत्य साईंबाबा का शव सोमवार और मंगलवार को उनका पार्थिव शरीर आश्रम के उस कुलवंत हॉल में रखा जाएगा जहाँ वो अपने जीवन में भक्तों को दर्शन दिया करते थे.

बताया गया है कि बुधवार को इसी कुलवंत हॉल में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

चूंकि इस अवसर पर लाखों लोग जमा होने की संभावना है इसलिए पूरे पुट्टपर्ति में ऐसे बड़े-बड़े स्क्रीन लगाए जा रहे हैं जिस पर लोग यह दृश्य देख सकेंगे.

वैसे भारतीय टेलीविज़न चैनल लगातार पुट्टपर्ति से सीधे समाचारों का प्रसारण कर रहे हैं.

प्रशासन ने सुरक्षा के कड़े इंतज़ाम किए हैं और बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों की तैनाती की है.

उत्तराधिकारी कौन?

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption ट्रस्ट ने अनंतपुर के गाँवों में पानी पहुँचाने के लिए कई सौ करोड़ रुपए लगाए

सत्य साईंबाबा का मुख्य आश्रम पुट्टपर्ति में है लेकिन इसके अलावा दुनिया के 126 देशों में इसके आश्रम हैं.

इसके संचालन का काम एक ट्रस्ट करता है,जिसकी स्थापना उनके भक्तों ने 1972 में की थी.

बीबीसी के आंध्र प्रदेश संवाददाता उमर फ़ारुक़ के अनुसार एक अनुमान के मुताबिक़ सत्य साईंबाबा से जुड़े संगठनों की चल-अचल संपत्ति की कुल क़ीमत चालीस हज़ार करोड़ से लेकर डेढ़ लाख करोड़ रुपए तक हो सकती है.

ट्रस्ट की ओर से शिक्षा और स्वास्थ्य की कई परियोजनाएँ चलाईं जाती हैं, इसके अलावा गाँवों में पीने का पानी पहुँचाने के लिए ट्रस्ट की ओर से कई महत्वपूर्ण कार्य किए गए हैं.

फ़िलहाल ये स्पष्ट नहीं है कि उनका उत्तराधिकारी कौन होगा और इसके लिए चर्चाओं और वार्ताओं का दौर जारी है.

हालांकि आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री किरण कुमार रेड्डी ने कहा है कि ट्रस्ट में उत्तराधिकार का कोई विवाद नहीं है लेकिन सरकार की ओर से एक निगरानी समिति बनाकर वहाँ भेजा गया है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार