पीएसी की 'लीक रिपोर्ट' पर बवाल

मुरली मनोहर जोशी इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption मुरली मनोहर जोशी पीएसी के अध्यक्ष हैं

2-जी स्पैक्ट्रम मामले की जाँच कर रही लोक लेखा समिति की रिपोर्ट का मसौदा लीक होने की ख़बरों के बीच केंद्र सरकार ने रिपोर्ट को ख़ारिज करते हुए कहा है कि समिति के अध्यक्ष मुरली मनोहर जोशी की आलोचना की है.

सरकार का कहना है कि मुरली मनोहर जोशी ने एक संसदीय पैनल के अध्यक्ष के रूप में नहीं बल्कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सदस्य के रूप में काम किया है.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने सरकार के कुछ मंत्रियों के नाम लिए बिना ये बताया है कि इन्होंने मुरली मनोहर जोशी की कड़ी आलोचना की है.

मंत्रियों का कहना है कि ये लोक लेखा समिति की नहीं मुरली मनोहर जोशी की रिपोर्ट है.

बैठक

लोक लेखा समिति का कार्यकाल जल्द ही ख़त्म होने वाला है और इसकी बैठक गुरुवार को होने वाली है.

लेकिन पीटीआई ने मीडिया में लीक हुई रिपोर्ट के हवाले से बताया है कि इस रिपोर्ट में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर कई सवाल उठाए गए हैं और वित्त मंत्री के रूप में पी चिदंबरम के कार्यकाल की भी आलोचना की गई है.

दूसरी ओर लोक लेखा समिति के कुछ सदस्यों ने लीक हुई रिपोर्ट के कारण मुरली मनोहर जोशी के इस्तीफ़े की मांग की है.

समिति के सदस्य केएस राव ने इस मामले में मुरली मनोहर जोशी की कड़ी आलोचना की है. वे कांग्रेस के सांसद हैं. कांग्रेस के अलावा समिति में द्रमुक सदस्यों ने भी रिपोर्ट लीक होने की आलोचना की है.

संबंधित समाचार