'घोटाला प्रधानमंत्री की जानकारी में हुआ'

यशवंत सिन्हा
Image caption लोक लेका समिति रिपोर्ट का कनूनी तौर पर चाहे जो हश्र हो भाजपा इसे लेकर सड़क पर उतरने तैयार है

लोक लेखा समिति पर धमा चौकड़ी अभी थमी नहीं है. भाजपा ने कहा है कि गुरूवार को जिस रिपोर्ट पर हंगामा शुरु हुआ है वो सदन में आए ना आए वो जनता के बीच जाएगी ही.

भारतीय जनता पार्टी के नेता और लोक लेखा समिति के सदस्य यशवंत सिन्हा ने शुक्रवार को पत्रकार वार्ता में कहा कि इस समिति की जांच से ये ज़ाहिर होता है कि 2-जी घोटाले में जो हुआ उसका 99.5 प्रतिशत प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की जानकारी में हुआ.

यशवंत सिन्हा ने लोक लेखा समिति में ज़्यादातर मुद्दों पर उनके साथ रहने वाले पर ऐन मौक़े पर कॉंग्रेस का साथ देने वाले समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के बारे में कहा कि इन दलों ने सीबीआई के दबाव में ये किया है.

यशवंत सिन्हा ने कहा " ये लोग हमेशा तो हमारे साथ रहे लेकिन आख़िरी मौक़े पर पलट गए. कॉंग्रेस कोई तो चाभी घुमाती है जो ये हमेशा पलट जाते हैं. चाहे संसद में परमाणु समझौता हो, या कटौती प्रस्ताव या कल का मुद्दा. हम मांग करते हैं कि सुप्रीम कोर्ट सपा और बसपा नेताओं के ख़िलाफ़ चल रही सीबीआई जांच की भी उसी तरह से निगरानी करे जिस तरह से वो 2-जी घोटाले की कर रही है."

भाजपा नेता ने ये भी कहा कि मुरली मनोहर जोशी लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार से मिलने के बाद अपनी बात कहेंगे और आगे की रणनीति तय करेंगे लेकिन पार्टी इस रिपोर्ट को लेकर जनता के बीच जायेगी.

यशवंत सिन्हा बोले " इस चोरों की बारात का बैंड तो हम बजाएगें. "

`भाजपा-वामपंथी गठजोड़'

दूसरी तरफ़ कॉंग्रेस के प्रवक्ता और राज्य सभा सांसद अभिषेक मनु सिंघवी ने सिन्हा के आरोपों को ख़ारिज कर दिया.

अभिषेक मनु सिंघवी ने दावा किया कि लोक लेखा समिति की रिपोर्ट को समिति के सदस्यों ने बहुमत से ख़ारिज किया है. उन्होंने आरोप लगाया की भाजपा और वाम पंथी दल कॉंग्रेस के ख़िलाफ़ एक जुट हो गए हैं.

सिंघवी ने कहा " लोक लेखा समिति वामपंथी भाजपा समिति बना दी गई है. इस समिति के अध्यक्ष मुरली मनोहर जोशी अपनी पार्टी के चलते इस रिपोर्ट को ख़त्म करने की बहुत जल्दबाज़ी में हैं. इस काम में उन्हें वामपंथी समर्थन दे रहे हैं. भाजपा इस समर्थन की क़ीमत बंगाल में वामपंथियों का समर्थन कर के चुका रही है."

संबंधित समाचार