नक्सल पुलिस मुठभेड़ में छह की मौत

नक्सल हमला (फ़ाइल)
Image caption नक्सलियों ने पहले भी घात लगाकर पुलिस पर हमले किए हैं.

पुलिस का कहना है कि महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में पुलिस और नक्सलियों के बीच हुई दो मुठभेड़ में चार सुरक्षाकर्मियों समेत छह लोगों की मौत हो गई है जबकि दो घायल हैं.

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राहुल सेठ ने बीबीसी से फ़ोन पर कहा कि पहले मुठभेड़ में, जो ज़िले के नारगुंड़ा क्षेत्र में हुई; दो नकस्ली भी मारे गए हैं. पुलिस घटना में हताहत हुए और लोगों की तलाश कर रही है.

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने कहा कि दोनों लाशें बरामद कर लगी गई हैं और पुलिस को उनकी लाश के पास से ऐके-47 की गोलियाँ भी मिली हैं.

राहुल सेठ ने कहा कि ऐके-47 के इस्तेमाल का मतलब है कि दोनों नकस्ली संगठन में ऊँचे ओहदे पर थे.

दोनों घटनाएं 20 किलोमीटर के फासले पर कुछ घंटो के फ़ासले पर हुईं.

ताड़गाँव

राहुल सेठ ने कहा कि ताड़गाँव के इलाक़े में गश्त कर रही पुलिस की टुकड़ी को एक सड़क पर बारूदी सुरंग होने की ख़बर मिली थी, उसे वहाँ से हटाने और पुलिस की एक टुकड़ी के आसपास के इलाके़ की छानबीन के बीच नक्सलियों ने गोलियाँ चलानी शुरू कर दीं.

उन्होंने कहा कि सुरक्षाकर्मियों ने भी जवाबी कार्रवाई की और मुठभेड़ लगभग दो घंटे तक जारी रही.

इस बीच पास के इलाक़े से पुलिस की और टुकड़ियों को रवाना किया गया जिनके आने के बाद नक्सली वहाँ से भाग खड़े हुए.

लेकिन मूठभेड़ में पुलिस के नक्सल विरोधी दस्ते के एक जवान और दो विशेष पुलिस अधिकारियो यानि एसपीओ की मौत हो गई.

इस मुठभेड़ में केंद्रीय रिर्ज़व पुलिस बल के अलावा महाराष्ट्र पुलिस का विशेष नक्सल-विरोधी दस्ता और स्थानीय पुलिस भी शामिल थीं.

नारगुंडा

नारगुंडा की घटना जो सुबह क़रीब तीन से चार घंटे के बीच चली, एक जवाब नक्सलियों की गोली का शिकार हो गया. इस घटना में दो जवान घायल हो गए थे लेकिन अब उन्हें ख़तरे से बाहर बताया जा रहा है.

उन्होंने इलाज के लिए गढ़चिरौली के अस्पताल में भर्ती करवाया गया था.

पुलिस ने दो नक्सलियों की लाश और आटोमेटिक रॉयफ़ल की गोलियाँ भी घटनास्थल से बरामद की है.

विरेश प्रभू का कहना है कि अर्धसैनिक बलों की एक टुकड़ी गुरूवार सुबह गश्त के लिए इलाक़े में गई थी. तभी उनपर घात लगाए नक्सलियों ने फ़ायरिंग शूरू कर दी.

संबंधित समाचार