फिर मिल सकता है हेडली से पूछताछ का मौक़ा

  • 3 जून 2011
डेविड हेडली
Image caption सुनवाई के दौरान डेविड हेडली ने कई सनसनीख़ेज़ बयान दिए हैं

अमरीका ने कहा है कि वह भारतीय जाँच एजेंसियों को एक बार फिर डेविड हेडली से पूछताछ करने का मौक़ा देने पर विचार कर सकता है.

इससे पहले भारतीय अधिकारियों ने जून, 2010 में एक बार डेविड हेडली से पूछताछ की थी.

तब भारतीय अधिकारियों को सात दिनों तक उनसे पूछताछ की अनुमति मिली थी.

डेविड हेडली पाकिस्तानी अमरीकी हैं जिन्होंने हाल ही में शिकागो की एक अदालत में स्वीकार किया है कि मुंबई में नवंबर, 2008 को हुए चरमपंथी हमलों में उनकी भूमिका थी.

उन्होंने इन हमलों में पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई और चरमपंथी संगठन लश्करे तैबा की भूमिका के भी विवरण दिए थे.

इन हमलों में कई विदेशी नागरिकों सहित 176 लोग मारे गए थे और कई अन्य घायल हुए थे.

मौक़ा

अमरीकी विदेश विभाग के प्रवक्ता मार्क टोनर ने अपनी नियमित पत्रवार्ता के दौरान कहा, "इससे पहले हमने भारत को डेविड हेडली से पूछताछ का मौक़ा दिया था. लेकिन जब किसी मुक़दमे की सुनवाई चल रही हो तो ऐसा करना असंभव है."

उन्होंने कहा, "लेकिन आगे हम पूछताछ का और मौक़ा देने पर विचार करेंगे."

पिछले दिनों भारत की यात्रा पर आईं अमरीकी गृहमंत्री नैपोलिटैनो ने भी संकेत दिए थे कि भारत को डेविड हेडली से पूछताछ का एक और अवसर देने पर विचार हो सकता है.

हेविड हेडली को वर्ष 2009 में गिरफ़्तार किया गया था.

शिकागो में पाकिस्तानी-कैनेडियन नागरिक तहव्वूर राणा के ख़िलाफ़ चल रहे मुक़दमे में डेविड हेडली पर चरमपंथ के 12 मामलों में आरोप लगाया गया है, जिन्हें हेडली ने स्वीकार कर लिया है.

हालांकि तहव्वुर राणा ने कहा है कि वे निर्दोष हैं.

संबंधित समाचार