किरण रेड्डी सरकार ने बहुमत सिद्ध किया

Image caption बधाई स्वीकार करते विधान सभा स्पीकर डी मनोहर.

आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री किरण कुमार रेड्डी की सरकार ने आज एक तरह से विधान सभा में अपना बहुमत सिद्ध कर दिया.

साथ ही कांग्रेस के उम्मीदवार डी मनोहर विधान सभा स्पीकर यानी अध्यक्ष चुन लिए गए हैं.

मुख्य विपक्षी दल तेलुगु देसम की मांग पर करवाए गए मतदान में 294 सदस्यों के सदन में मनोहर को 154 मत मिले जब की तेदपा के कृष्णामूर्ति को 90 मत मिले.

स्पीकर का चुनाव इसलिए काफ़ी महत्वपूर्ण हो गया था की कांग्रेस के विधायक, बाग़ी नेता और वाईएसआर रेड्डी कांग्रेस के अध्यक्ष वाईएस जगनमोहन रेड्डी का समर्थन कर रहे थे.

जगनमोहन रेड्डी के समर्थक यह भी दावा कर रहे थे की वो जब चाहें कांग्रेस की सरकार को गिरा सकते हैं. हालाँकि कांग्रेस के कुछ सदस्य सदन से गैर हाज़िर रहे जिनमें जगन के कुछ समर्थक भी शामिल हैं.

लेकिन कांग्रेस को प्रजा राज्यम पार्टी और मजलिस इत्तेहादुल मुस्लिमीन का समर्थन मिला जिसके चलते उसके प्रत्याशी को स्पीकर चुन लिया गया.

वाईएसआर कांग्रेस की एक मात्र विधायक विजयलक्ष्मी ने मतदान में हिस्सा नहीं लिया.

आज के इस मतदान से यह भी स्पष्ट हो गया कि राज्य में कांग्रेस सरकार के लिए अपना बहुमत सिद्ध करने के लिए दूसरे दलों का समर्थन आवश्यक हो गया है.

जहाँ 18 विधायकों वाली प्रजा राज्यम पार्टी का जल्द ही कांग्रेस में विलय होने वाला है वहीं मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन भी कांग्रेस का समर्थन कर रही है जिस के पास सात विधायक हैं.

अब किरण कुमार रेड्डी के सामने एक और चुनौती तेदपा के अविश्वास प्रस्ताव का सामना करने की होगी.

तेदपा ने आज ही इस प्रस्ताव का नोटिस दिया है और संभावना है कि इस पर बहस और मतदान के लिए जल्द ही सदन की एक और बैठक बुलाई जाएगी.

उस समय फिर एक बार जगनमोहन रेड्डी के समर्थकों की संख्या पर सवाल उठेंगे.

वाईएसआर कांग्रेस की कल की बैठक में कांग्रेस के 20 विधायक उपस्थित थे.

पार्टी का यह भी दावा है की अन्य 11 विधायकों ने भी उसके समर्थन का वादा किया है.

पार्टी के सूत्रों के अनुसार वो कुल 20 विधायकों को साथ मिलाने की कोशिश कर रहे हैं ताकि राज्य में कांग्रेस सरकार को जल्द से जल्द गिराया जा सके.

इधर यह भी सम्भावना है कि कांग्रेस पार्टी जगन का समर्थन करने वाले विधायकों को अयोग्य घोषित करने की कर्रवाई शुरू करे.

इनमें से चार को पार्टी पहले ही कारण बताओ नोटिस जारी कर चुकी है.

नए स्पीकर 47 वर्षीय मनोहर गुंटूर ज़िले के तेनाली चुनाव क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं.

वो मुख्यमंत्री किरण कुमार रेड्डी के बचपन के दोस्त हैं और टेनिस के राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी रहे हैं. उनके पिता भास्कर राव राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं.

आज ही एक दलित वर्ग के नेता मल्लू भट्टी विक्रमारका को विधान सभा का उपाअध्यक्ष चुन लिया गया. कांग्रेस के विक्रमारका को 164 वोट मिले जब की तेदपा के सुद्दाला देव्या को 88 वोट मिले.

नए स्पीकर और डिप्टी स्पीकर की नियुक्ति राज्य में कांग्रेस पार्टी और सरकार की हालत बेहतर बनाने के लिए कांग्रेस आला कामन की रणनीति का एक हिस्सा है.

संबंधित समाचार