बाबा रामदेव को रामलीला मैदान से हटाया गया

  • 5 जून 2011
बाबा रामदेव
Image caption रामलीला मैदान पर पुलिस पहुंची.

पुलिस ने दिल्ली के रामलीला मैदान पर अनशन पर बैठे बाबा रामदेव को वहां से हटा दिया है. दिल्ली के पुलिस कमिश्नर बीके गुप्ता ने कहा है कि बाबा रामदेव को 'सुरक्षित स्थान' पर ले जाया गया है.

रामलीला मैदान पहुंचे कमिश्नर बीके गुप्ता ने पत्रकारों को बताया कि बाबा को गिरफ़्तार नहीं किया गया है. उन्होंने ये साफ़ नहीं किया कि उन्हें कहां ले जाया गया है.

बीके गुप्ता ने कहा, "हमने आंसू गैस के अलावा किसी प्रकार का बलप्रयोग नहीं किया है. उन्हें दी गई इजाज़त तुरंत प्रभाव से रद्द की जाती है. बाबा रामदेव को गिरफ़्तार नहीं किया गया है. उन्हें सुरक्षा चिंताओं की वजह से यहां से हटाया गया है. "

बाबा रामदेव को रामलीला मैदान में लगे बड़े से पंडाल से हटाए जाने के बाद पुलिस ने वहां मौजूद उनके लगभग सभी समर्थकों को हटा दिया.

उसके बाद पुलिस ने रामलीला मैदान का बिजली का कनेक्शन काट दिया.

शुरू में जब पुलिस रामलीला मैदान पर पहुंची तो बाबा रामदेव ने एक भारतीय टीवी चैनल के साथ बात की और सरकार के पुलिस भेजने के फ़ैसले पर सख़्त विरोध जताया लेकिन उसके बाद पुलिस ने उन्हें पंडाल से हटा दिया.

'दिन में गिरफ़्तार करो'

पंडाल से हटाए जाने से कुछ मिनट पहले भारतीय टीवी चैनल 'स्टार न्यूज़' से बात करते हुए बाबा रामदेव ने कहा है कि पुलिस उन्हें गिरफ़्तार करने आई है.

बाबा रामदेव ने कहा, "पुलिस मुझे गिरफ़्तार करने आई है. अगर मुझे गिरफ़्तार करना है तो दिन में करें. मैं देश की सारी जनता का आहवान करता हं कि हम इस बात का विरोध करें. मैं दिल्ली के लोगों से कहूंगा कि रामलीला मैदान पर पहुंचे."

इसके बाद पुलिस ने बाबा रामदेव को पंडाल से हटा दिया.

बाबा रामदेव को हटाए जाने के बाद पुलिस ने उनके समर्थकों से रामलीला मैदान ख़ाली करने को कहा. इस बीच बाबा रामदेव के कुछ समर्थकों से प्रार्थना शुरू कर दी.

लेकिन पुलिस ने एक-एक करके लगभग सभी समर्थकों को पंडाल से निकालना शुरू कर दिया. अब लगभग सारा पंडाल खाली करवा लिया गया है.

'बाबा के बारे में चिंतित'

भारतीय समाचार टीवी चैनलों पर दिखाई जा रही तस्वीरों में बाबा के कुछ समर्थक पुलिस की कार्रवाई का विरोध करते देखे जा सकते थे.

उधर बाबा रामदेव के प्रमुख सहयोगी ने तिजारावाला ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया है कि बाबा का 'अपहरण' किया गया है.

तिजारावाला ने पीटीआई को बताया, "मैंने कभी ऐसा नहीं देखा है. हमें ये नहीं बताया गया है कि बाबा रामदेव को कहां ले जाया गया है.हम उनके बारे में चिंतित हैं. पुलिस उनके साथ कुछ भी कर सकती है."

तिजारावाला ने भारत के चीफ़ जस्टिस से इस मामले में हस्ताक्षेप की मांग की है.

संबंधित समाचार