काले धन पर विशेष सत्र की मांग

भाजपा इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption भाजपा रामदेव के साथ हुई पुलिस कार्रवाई के विरोध में धरने पर है

देश के मुख्य विपक्षी राजनीतिक दल भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन ने राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल से मुलाक़ात कर उन्हें एक ज्ञापन दिया है.

राजग ने काला धन, भ्रष्टाचार और बाबा रामदेव के ख़िलाफ़ हुई पुलिस कार्रवाई पर बहस के लिए संसद का विशेष सत्र बुलाने की मांग की है.

दूसरी ओर गांधीवादी अन्ना हज़ारे ने वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी को एक पत्र लिखकर आज होने वाली लोकपाल मसौदा समिति की बैठक में शामिल न होने की वजह बताई है. साथ ही साथ अन्ना हज़ारे ने प्रणव मुखर्जी से समिति की कार्यवाही पर कुछ सवालों के जवाब मांगे हैं.

पत्रकारों के इस सवाल के जवाब मे कि क्या अन्ना हज़ारे और उनके साथी पूर्व क़ानून मंत्री शांति भूषण, वकील प्रशांत भूषण और सामाजिक कार्यकर्ता अरविंद केजरीवाल मसौदा समिति से अलग हो रहे हैं, पूर्व पुलिस अधिकारी और सामाजिक कार्यकर्ता किरण बेदी ने कहा कि फ़िलहाल वित्त मंत्री के जवाब का इंतज़ार किया जा रहा है.

किरण बेदी ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार मसौदे की तैयारी के मामले में लोगों के सुझाव इकट्ठा करने के लिए ठीक तरह से काम नहीं कर रही है.

हालांकि उन्होंने कहा कि अन्ना हज़ारे और उनकी टीम का पूरा ध्यान फ़िलहाल बुधवार को आयोजित होनेवाले एक दिवसीय अनशन की तैयारी को लेकर है.

आरोप

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption अन्ना हज़ारे और उनके सहयोगी सोमवार को आयोजित लोकपाल मसौदा समिति की बैठक में नहीं गए

राजग गठबंधन की राष्ट्रपति से मुलाक़ात के बाद भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी ने कहा कि केंद्र मे मौजूद मनमोहन सिंह सरकार आज़ादी के बाद देश में आई सबसे अधिक भ्रष्ट सरकार है.

लालकृष्ण आडवाणी ने कहा कि प्रतिभा पाटिल को दी गई चिट्ठी में भ्रष्टाचार पर संसद के भीतर चली मुहिम का ज़िक्र है.

उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार को लेकर पूरे देश में जो मुहिम जारी है, उसमें उनके दल और गठबंधन का बहुत अहम योगदान है.

उनका कहना था कि उन्होंने इस मामले में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को चिट्ठी भी लिखी थी.

भाजपा के पूर्व अध्यक्ष का कहना था कि रामदेव को लेकर सरकार की पूरी कारवाई कुछ अजीब सी रही, एक बार तो सरकार के चार-चार मंत्री रामदेव से मिलने हवाई अड्डे गए और एक दिन बाद ही पुलिस ने शांतिपूर्ण ढ़ंग से विरोध प्रदर्शन कर रहे योग गुरू और उनके समर्थकों पर डंडे बरसाए.

जब उनसे पूछा गया कि राष्ट्रपति ने उनके ज्ञापन का क्या जवाब दिया, तो वरिष्ठ भाजपा नेता ने कहा कि प्रतिभा पाटिल ने उनसे कहा है कि वो इसपर पूरी तरह ग़ौर करेंगी और उचित कार्रवाई की जाएगी.

संबंधित समाचार