'मसौदा समिति से अलग नहीं हुए हैं'

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption अब अन्ना की टीम ने राजघाट पर एक दिन का अनशन करने का फ़ैसला किया है.

सरकार ने अन्ना हज़ारे और उनकी टीम के सदस्यों को जंतर मंतर पर एक दिन का अनशन करने की इजाज़त देने से इनकार कर दिया है.

मंगलवार को दिल्ली के महाराष्ट्र सदन में पत्रकारों से बात करते हुए उनकी टीम के सदस्यों ने इसकी जानकारी दी.

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली पुलिस के मुताबिक़ जंतर-मंतर पर धारा 144 लगी है लिहाज़ा वहां किसी प्रकार के धरना या प्रदर्शन की इजाज़त नहीं दी जा सकती है.

अब अन्ना की टीम ने राजघाट पर एक दिन का अनशन करने का फ़ैसला किया है.

दिल्ली के रामलीला मैदान में रामदेव के अनशन को पुलिस कार्रवाई में ख़त्म किए जाने और आधी रात में सोये हुए लोगों पर कथित पुलिस बर्बरता के विरोध में अन्ना हज़ारे ने अपने समर्थकों के साथ एक दिन का अनशन करने का फ़ैसला किया था.

केजरीवाल के अनुसार दिल्ली पुलिस को राजघाट पर अनशन करने से कोई ऐतराज़ नहीं है. कार्यक्रम के अनुसार सुबह 10 बजे से शाम के छह बजे तक अनशन होगा.

इस मौक़े पर भजन कीर्तन के अलावा सर्वधर्म प्रार्थनाएं भी होंगी.

'ड्राफ्टिंग कमेटी का बहिष्कार नहीं'

प्रशांत भूषण ने कहा कि जंतर-मंतर पर अनशन की इजाज़त नहीं देना नागरिकों के मौलिक अधिकार का हनन है लेकिन बावजूद इसके वे लोग इस मामले में किसी तरह का विवाद नहीं खड़ा करना चाहते हैं.

इस मौक़े पर अन्ना की टीम ने ये भी साफ़ किया कि उन लोगों ने लोकपाल विधेयक ड्राफ्टिंग कमेटी का बहिष्कार नहीं किया है. रामलीला मैदान में रामदेव के ख़िलाफ़ पुलिस कार्रवाई के विरोध में उनलोंगों ने केवल छह जून को होने वाली बैठक का विरोध करने का फ़ैसला किया था.

अरविंद केजरीवाल ने बताया कि शांति भूषण ने प्रणब मुखर्जी को जो पत्र लिखा है उसमें अगली बैठक दस जून के बाद करने की अनुरोध किया है जिसका मतलब साफ़ है कि वह लोग कमेटी का बहिष्कार नहीं कर रहे हैं.

इस बारे में मीडिया में ग़लत बातें फैलाई जा रहीं हैं.

ग़ौरतलब है कि मानव संसाधन मंत्री और लोकपाल विधेयक ड्राफ़टिंग कमेटी में सरकार की तरफ़ से मनोनीत सदस्यों में से एक कपिल सिब्बल ने सोमवार को कहा था कि अन्ना की टीम बैठक में शामिल हो या ना हो सरकार 30 जून तक लोकपाल बिल लाने की पूरी तैयारी कर लेगी.

इस मौक़े पर अन्ना की टीम ने कथित अभद्र भाषा इस्तेमाल किए जाने के कपिल सिब्बल के ज़रिए लगाए आरोप को भी ख़ारिज कर दिया.

इस बीच कांग्रेस के एक नेता बीके हरिप्रसाद ने अन्ना हज़ारे पर 'आरएसएस का मुखौटा' होने का आरोप लगाया है. अन्ना हज़ारे और उनके सहयोगी इस टिप्पणी से खिन्न हैं और उन्हें सरकार को इस बारे में एक पत्र लिखने का फैसला किया है.

संबंधित समाचार