जबरन अनशन तुड़वाने की सलाह

बाबा रामदेव इमेज कॉपीरइट AP

बाबा रामदेव की देखरेख कर रहे डॉक्टरों ने उनकी हालत पर चिंता जताई है. चार जून से अनशन कर रहे बाबा रामदेव का स्वास्थ्य गिर रहा है.

हरिद्वार में रामदेव की जाँच-पड़ताल के बाद डॉक्टरों ने कहा है कि अगर बाबा रामदेव अपना अनशन नहीं तोड़ते, तो जबरन उनका उपवास तुड़वाना चाहिए.

डॉक्टरों का कहना है कि उनके शरीर में पानी की लगातार कमी हो रही है. डॉक्टरों की सलाह के बाद राज्य सरकार ने भी बाबा से अनशन तुड़वाने के लिए पहल शुरू कर दी है.

हरिद्वार के ज़िलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक भी गुरुवार को बाबा रामदेव से मिलने गए. बाद में एक संवाददाता सम्मेलन में ज़िलाधिकारी ने कहा कि बाबा रामदेव ने ग्लूकोज़ पीने से मना कर दिया है.

अनशन

ज़िलाधिकारी ने कहा, "रामदेव ने नींबू पानी और शहद पीने का आग्रह स्वीकार कर लिया है. शाम को एक बार फिर उनके स्वास्थ्य की जाँच होगी."

उन्होंने कहा कि अगर मुख्य चिकित्सा अधिकारी ये समझते हैं कि ग्लूकोज़ चढ़ाना ज़रूरी है तो फिर ऐसा करना ही पड़ेगा.

बाबा रामदेव ने चार जून से दिल्ली के रामलीला मैदान में अनशन शुरू किया था.

लेकिन चार जून की देर रात दिल्ली पुलिस की कार्रवाई के बाद उन्हें हरिद्वार भेज दिया गया. लेकिन हरिद्वार से भी बाबा रामदेव का अनशन जारी है. हरिद्वार में उनके साथ बड़ी संख्या में लोग भी अनशन कर रहे हैं.

बाबा रामदेव की मांग है कि भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ कड़े क़ानून बनाए जाएँ, विदेशों से काला धन स्वदेश लाया जाए और देश से भ्रष्टाचार का पूरा ख़ात्मा हो.

संबंधित समाचार