'मछुआरों की तलाश में नौसेना की मदद'

नौका

बंगाल की खाड़ी में पिछले दो दिनों से लापता मछली मारने वाली 36 नौकाओं और उनपर सवार लगभग 550 मछुआरों को ढ़ूढ़ने के काम में मिली नाकामयाबी के बाद पश्चिम बंगाल सरकार ने उनकी खोज के लिए अब भारतीय नौसेना की मदद ली है.

पूर्वी क्षेत्र में नौसेना के प्रवक्ता विगं कमांडर महेश उपासनी ने बीबीसी संवाददाता अमिताभ भट्टासाली को बताया है कि नौसैना का एक ज़हाज़ विशाखापट्नम से काकद्वीप के लिए रवाना हो चुका है.

महेश उपासनी ने कहा कि तलाशी के काम में हवाई जहाज़ की भी मदद ली जाएगी.

लेकिन लगातार बारिश की वजह से समुद्र तल के ऊपर बादल छाया हुआ है जिससे जहाज़ को उड़ान भरने में दिक्क़त आ सकती है.

इधर भारतीय तटरक्षक सेना ने नौकाओं और मछुआरों को ढ़ूढ़ने के काम में शनिवार को तीन ज़हाज़ों की तैनाती की है जिसमें एक हॉवर क्राफ़्ट भी शामिल है.

तटरक्षक सेना के अधिकारी अभिजीत दासगुप्ता ने कहा कि अगर मौसम बेहतर रहा तो कोस्ट गार्ड कुछ ही देर में हवाई निगरानी भी शुरू करेगा.

तटरक्षक सेना के जहाज़ दूर समुद्र में जाकर मछुआरों और लापता ट्रॉलरों का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन अधिकारियों का कहना है कि लगातार हो रही बारिश की वजह से समुद्र में तूफ़ान की स्थिति है जिससे तलाशी अभियान को दिक्क़तों का सामना करना पड़ रहा है.

दक्षिण 24 परगना के काकद्वीप और पूर्वी मिदनापुर के दीघा से गए इन 36 ज़हाज़ों का संपर्क बंदरगाहों से टूट गया था जिसके बाद से इनकी तलाशी का काम जारी है.

पश्चिम बंगाल में सुंदरबन मामलों के मंत्री श्यामल मंडल का कहना है कि लापता 36 में से पाँच नौकाओं का पता चल गया है हालांकि वो ये नहीं बता पाए कि इनपर कितने मछुआरे मौजूद हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption पिछले दिनों हो रही लगातार बारिश से राज्य के कई इलाक़ों में बाढ़ की स्थिति है.

श्यामल मंडल तलाशी अभियान का जायज़ा लेने के लिए दिन में ख़ुद काकद्वीप जाएंगे.

इस बीच राज्य में लगातार हो रही बारिश और उससे कई इलाक़ों में पैदा हुए बाढ़ के हालात में छह लोगों के मारे जाने की ख़बर है.

समाचार एजेंसी एएफ़पी ने वरिष्ठ पुलिस अधिकारी सुरोजीत पुरकाय्सथा के हवाले से कहा है कि भारी बारिश और तूफ़ान में 10 लोगों की मौत हो गई है.

मारे गए लोगों में पहाड़ी दार्जिलिंग ज़िले में हुई भूसख्लन की घटना में एक ही परिवार के तीन बच्चों समेत चार लोग शामिल थे.

लगातार बारिश और उसके बाद कई इलाक़ों में बाढ़ की स्थिति को देखते हुए राज्य प्रशासन ने पश्चिम बंगाल के सात दक्षिणी और तीन उत्तरी ज़िलों में एलर्ट घोषित कर दिया है और स्थानीय प्रशासन को किसी भी आकस्मिक स्थिति से निपटने को तैयार रहने को कहा है.

संबंधित समाचार