क्या लुट रही है साईं बाबा की संपत्ति?

यजुर्वेद भवन जहाँ साईं बाबा रहा करते थे इमेज कॉपीरइट BBC World Service

पुट्टपर्ति में स्थित सत्य साईं बाबा का आश्रम बड़े विवादों के घेरे में आ गया है. इन आरोपों ने अब गंभीर रूप ले लिया है कि आश्रम और सत्य साईं केन्द्रीय ट्रस्ट के कुछ लोग साईं बाबा की छोड़ी हुई दौलत को लूटने में लगे हैं.

अनंतपुर पुलिस ने दो अलग-अलग घटनाओं में अलग-अलग वाहनों से नकद राशि ज़ब्त की है जिसके बारे में कहा जा रहा है कि यह साईं बाबा की संपत्ति का ही भाग है.

शनिवार आधी रात को एक गाड़ी से 35 लाख रुपए ज़ब्त किए गए और दो व्यक्तियों को गिरफ्तार कर लिया गया. उनमें से एक सत्य साईं ट्रस्ट के सदस्य वी श्रीनिवासन के ड्राइवर शेखर हैं.

पुलिस उनसे पूछताछ कर रही है. यह राशि पुट्टपर्ति से बंगलौर ले जाई जा रही थी.

अनंतपुर ज़िले के पुलिस प्रमुख शाहनवाज़ कासिम ने यह खुलासा करके हलचल मचा दी है की यह राशि उसी संपत्ति का हिस्सा है जो दो दिन पहले, सत्य साईं बाबा के निवास स्थान यजुर्वेद मंदिर केृा ताला खुलने पर सामने आई थी.

गिरफ़्तार ड्राइवर ने पुलिस को बताया है की उसे यह रकम ट्रस्ट के मुख्य सुरक्षा अधिकारी प्रधान ने दी थी और उस समय दो ट्रस्ट सदस्य रत्नाकर (साईं बाबा के भतीजे) और वी श्रीनिवासन वहां मौजूद थे.

इस दावे से खुद ट्रस्ट के सदस्य भी शक के घेरे में आग गए हैं.

कासिम ने कहा की ज़ब्त की गई रकम और गिरफ्तार व्यक्तियों को अदालत में पेश किया जाएगा और उन सभी लोगों से पूछताछ की जाएगी जिनके नाम सामने आए हैं.

बयानों में विरोध

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption सत्य साईं बाबा के निधन के बाद ट्रस्ट ही कामकाज संभाल रहा है

इधर एक और घटना में पुट्टपर्ति से बंगलौर जाने वाली एक बस से दो बैग ज़ब्त किए गए और दो व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया.

समझा जा रहा है की इन बैगों में भी पुलिस को भारी मात्रा में धन मिला है लेकिन अभी इसकी सरकारी पुष्टि नहीं हुई है.

कल रात ज़ब्त की गई रकम और गिरफ़्तारी से प्रशांति निलयम और पुट्टपर्ति में हड़कंप मच गया है.

आज दिन में सत्य साईं ट्रस्ट के कुछ वरिष्ट सदस्यों की बैठक हुई और इस पूरे मामले पर विचार किया गया.

बैठक के बाद रत्नाकर ने पत्रकारों से कहा कि ज़ब्त राशि का ट्रस्ट से कोई संबंध नहीं है, लेकिन उनके और पुलिस के बयान में विरोध ने विवाद को और भी बढ़ा दिया है.

इन रिपोर्टों के बाद कि साईं बाबा की छोड़ी संपत्ति की लूटमार हो रही है, उनके भक्त भी सड़कों पर उतर आए हैं और उन्होंने आश्रम के बाहर विरोध प्रदर्शन किया.

यहाँ यह बात उल्लेखनीय है कि साईं बाबा की मृत्यु के कोई ढाई महीने बाद गत सप्ताह ही उनके निवास स्थान यजुर्वेद मंदिर के ताले खोले गए और वहां से लगभग 11 करोड़ रुपए, 98 किलो सोना और 376 किलो चांदी मिली है.

हालाँकि ट्रस्ट ने कहा था कि वहां मिलने वाली पूरी संपत्ति का लेखा-जोखा मौजूद है और सारी राशि बैंक में जमा करा दी गई है लेकिन अब यह संदेह बढ़ गया है की उस में से कुछ राशि क्या गायब कर दी गई.

संबंधित समाचार