'एनएसजी दे भारत को पूर्ण छूट'

टिमोथी रोमर(फ़ाईल फ़ोटो)
Image caption रोमर ने भारत में मिले प्यार मोहब्बत के लिए लोगों का शुक्रिया अदा किया

भारत में अमरीका के राजदूत टिमोथी रोमर ने कहा है कि अमरीका, भारत के लिए परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह यानी एनएसजी की ओर से 'क्लीन वेवर' अथवा पूर्ण छूट का मज़बूती से समर्थन करता है.

टिमोथी रोमर गुरुवार को दिल्ली में अमरीकी राजदूत के रूप में आख़िरी बार पत्रकारों से बात कर रहे थे.

भारत के प्रधानमंत्री से मिलने जाने से पहले दिल्ली में इंडिया गेट के प्रांगण में पत्रकारों से बात करते हुए रोमर ने कहा कि ओबामा प्रशासन पूरी तरह से इस बात का समर्थन करता है कि भारत को एनएसजी से क्लीन वेवर यानी पूर्ण छूट मिलनी चाहिए.

लगभग दो साल तक भारत में अमरीका के राजदूत रहे रोमर ने इसी साल अप्रैल में अपने पद से इस्तीफ़ा देने की घोषणा की थी.

क़रीबी रिश्ते

रोमर ने कहा, पहला ये कि ओबामा प्रशासन क्लीन वेवर का समर्थन करता है. दूसरे ये कि भारत-अमरीका असैनिक परमाणु समझौता भी इसकी वकालत करता है, तीसरे ये कि अमरीका का अपना क़ानून भी क्लीन वेवर का पुरज़ोर समर्थन करता है.

ग़ौरतलब है कि भारत जैसे ग़ैर एनपीटी यानी परमाणु अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर न करने वाले मुल्कों को परमाणु संवर्धन तकनीक नहीं देने के नियम का कड़ाई से पालन करने के एनएसजी के ताजा दिशानिर्देशों को लेकर भारत ने चिंता जताई है.

भारत पर भले ही इसका तात्कालिक असर न पड़े लेकिन देश के दूरगामी परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम पर इसका बुरा असर पड़ सकता है.

रोमर ने कहा कि पिछले दस सालों में भारत और अमरीका कई मुद्दों पर एक दूसरे के बहुत क़रीब आए हैं.

उनके अनुसार, ख़ुफ़िया जानकारियों के आदान-प्रदान, क्षेत्रीय शांति, अफ़ग़ानिस्तान में साझाहित, अर्थव्यवस्था, जैसे कई मुद्दों पर भारत और अमरीका एक साथ हैं.

उन्होंने मीडिया से अनुरोध किया कि दोनों देशों के बीच कभी-कभार मामूली बातों पर हुई असहमति के साथ-साथ उन्हें इन सकारात्मक चीज़ों को भी उजागर करना चाहिए.

भारत में बिताए अपने कार्यकाल के बारे में रोमर ने कहा कि वे भारत में जहां भी गए लोगों ने दिल से उनका स्वागत किया.

उन्होंने कहा कि सिर्फ़ दिमाग़ और पेट ही नहीं उनके ख़ून में भी भारत मौजूद है.

संबंधित समाचार