सॉलिसिटर जनरल ने की इस्तीफ़े की पेशकश

राजा (फ़ाइल) इमेज कॉपीरइट AP
Image caption मनमोहन सिंह सरकार के दो मंत्री ए राजा और दयानिधि मारन 2जी घोटाले की भेंट चढ़ चुके हैं.

भारत के सॉलिसिटर जनरल गोपाल सुब्रमण्यम ने इस्तीफ़े की पेशकश की है.

इस्तीफ़ा देने की पेशकश एक ऐसे समय की गई जब सुप्रीम कोर्ट सोमवार को 2जी स्पेक्ट्रम मामले में संचार कंपनी को दी जानेवाली कथित छूट की सुनवाई करने जा रहा है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार दूर संचार मंत्रालय ने इसकी पैरवी के लिए एक निजी वकील की व्यवस्था की है जिसको लेकर सॉलिसिटर जनरल नाराज़ हैं.

हालांकि कहा गया है कि क़ानून मंत्री वीरप्पा मोईली ने त्यागपत्र की पेशकश को अस्वीकार कर दिया है.

चंद दिनों पहले सुप्रीम कोर्ट में काले धन और सलवा जुडूम मामले में फ़ैसला सरकार के ख़िलाफ़ गया था.

गत नवंबर सुप्रीम कोर्ट ने 2जी स्पेक्ट्रम आवंटन मामले में प्रधानमंत्री की कथित निष्क्रियता पर सरकार से शपथ पत्र दायर करने को कहा था.

कुछ हल्कों में ये कहा गया कि सरकार का पक्ष उच्चतम न्यायालय के सामने ठीक तरह से नहीं रखा जा सका था.

बाद में केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री के पक्ष को अदालत के समक्ष रखने के लिए ऐटॉर्नी जनरल जी ई व्हानवती की मदद ली थी.

लेकिन सॉलिसिटर जनरल 2जी मामले की देख-रेख करते रहे.

मुख्य जाँच एजेंसी सीबीआई के मुक़दमों में भी सरकार ने अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल हरेन रावल के साथ साथ मशहूर वकील के वेणुगोपाल की सहायता ली है.

संबंधित समाचार