कामत ने इस्तीफ़े की पेशकश की

गुरुदास कामत इमेज कॉपीरइट Other
Image caption गुरुदास कामत शपथ ग्रहण में शामिल नहीं हुए

महाराष्ट्र से कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री गुरुदास कामत ने इस्तीफ़े की पेशकश की है. माना जा रहा है कि वे मंत्रिमंडल में फेरबदल के बाद दिए गए विभाग से ख़ुश नहीं थे.

गुरुदास कामत पहले दूरसंचार और सूचना तकनीक मंत्रालय में राज्य मंत्री थे. प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक़ उन्हें स्वतंत्र प्रभार वाला राज्य मंत्री तो बनाया गया लेकिन उनका विभाग बदल दिया गया है.

उन्हें पेय जल और सफ़ाई मंत्री बनाया गया था. लेकिन गुरुदास कामत राष्ट्रपति भवन में हुए शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं हुए.

उसके बाद से ही अटकलों का बाज़ार गर्म था कि गुरुदास कामत का अगला क़दम क्यो होगा?

इच्छा

अब उन्होंने एक प्रेस रिलीज़ जारी करके यह बताया है कि वे मंत्री पद छोड़ना चाहते हैं. उन्होंने कहा है कि वे पार्टी के लिए काम करना चाहते हैं.

गुरुदास कामत ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को पत्र लिखकर कहा है कि वे अपनी मंत्री पद की ज़िम्मेदारी से मुक्त होना चाहते हैं.

एक प्रेस विज्ञप्ति में उन्होंने कहा, "मैंने सोनिया गांधी और मनमोहन सिंह को पत्र लिखकर मंत्री पद से मुक्त किए जाने की इच्छा जताई है. मैं एक कार्यकर्ता के रूप में पार्टी के लिए काम करना चाहता हूँ."

गुरुदास कामत के अलावा उड़ीसा से पार्टी सांसद श्रीकांत जेना भी शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं हुए.

श्रीकांत जेना को सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन विभाग का राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बनाया गया था. इसके साथ ही उन्हें इस्पात और उर्वरक विभाग में राज्य मंत्री बनाए रखा गया था.

संबंधित समाचार