मुंबई धमाकों में पूछताछ के बाद मौत

  • 17 जुलाई 2011
इमेज कॉपीरइट BBC World Service

तेरह जुलाई को हुए मुंबई धमाकों के सिलसिले में पूछताछ के लिए बुलाए गए फ़ैज़ उसमानी नामक व्यक्ति की रविवार को मौत हो गई है.

शनिवार को उनसे पुलिस ने पूछताछ की थी. कहा जा रहा है कि इसी दौरान वो कथित तौर पर बीमार पड़ गए.

बीमार पड़ने के बाद उन्हें सायन अस्पताल ले जाया गया. डॉक्टरों का कहना है कि अफ़ज़ल की मौत ब्रेन हेमरेज से हुई.

अस्पताल के एक कर्मचारी ने बीबीसी को बताया कि फ़ैज़ उस्मानी को जब लाया गया तो वो बेहोशी के हालत में थे और उनके शरीर के बाएँ हिस्से में कमज़ोरी थी, और जब उनका सीटी स्कैन हुआ तो पाया गया कि उनके मस्तिषक में रक्तश्राव हो रहा था.

फ़ैज़ अफ़ज़ल उसमानी के भाई हैं जो फ़िलहाल अहमदाबाद बम धमाकों के सिलसिले में जेल में बंद हैं.

मुंबई पुलिस के प्रवक्ता निसार तंबोली ने बीबीसी को बताया कि फ़ैज़ उस्मानी के साथ कोई दुर्वय्वहार नहीं किया गया.

उन्होंने कहा, 'हमने उन्हें क्राईम ब्रांच, चेंबूर, में कुछ सवाल पूछने के लिए बुलाया था. पुलिस के साथ सहयोग करने के लिए वो आने के लिए तैयार हो गए. आने के करीब आधे घंटे बाद उन्होंने चक्कर आने की शिकायत की. उन्हें सायन अस्पताल ले जाया गया.'

निसार तंबोली के मुताबिक उस्मानी ने अस्पताल में बताया कि उन्हें हाईपरटेंशन या ज़्यादा तनाव की बीमारी है और दो-तीन दिनों से उन्होंने दवाएँ नहीं ली हैं.

तंबोली ने कहा, "क्राईम ब्रांच के अफ़सर अस्पताल में थे. उनके (फ़ैज़) के रिश्तेदारों को भी बुला लिया गया. उनकी मौत रात करीब 1.50 बजे हुई."

आरोप

उधर फ़ैज़ के परिवार वालों ने आरोप लगाया है कि फ़ैज़ के साथ पूछताछ के दौरान कुछ ग़लत हुआ है जिससे उनकी मौत हुई. पूछताछ के दौरान आतंक निरोधी दस्ते (एटीएस) के अधिकारी मौजूद थे.

लेकिन निसार तंबोली ने फ़ैज़ के साथ किसी भी शारीरिक प्रताड़ना या दुर्वय्वहार से इंकार किया और कहा कि ये बात पोस्ट-मॉर्टम में सामने आ जाएगी.

उन्होंने कहा कि राज्य की 'स्वतंत्र जाँच एजेंसी' सीआईडी क्राईम इस मामले की जाँच करेगी.

तंबोली ने कहा, "इस तरह के मामलों में आरोप लगते रहते हैं. हमें समझाना पड़ता है. पोस्ट-मॉर्टम रिपोर्ट है, डॉक्टर की रिपोर्ट है. उन्हें कब वहाँ पहुँचाया गया. कितने बजे उन्हें भरती किया गया था, पोस्ट-मॉर्टम रिपोर्ट में ये सामने आ जाएगा कि उनके ऊपर किसी तरह की हिंसा नहीं की गई और उनकी मौत हाईपरटेंशन से हो गई."

फ़ैज़ की मौत को स्थानीय पुलिस थाने में हादसे के तौर पर दर्ज कर लिया गया है.

इससे पहले शनिवार को मुंबई पुलिस ने दावा किया था कि उसे मुंबई धमाकों के सिलसिले में सुराग मिले हैं. महाराष्ट्र की आतंकवाद निरोधी शाखा जल्दी ही मुंबई धमाकों से जुड़े एक संदिग्ध व्यक्ति का स्केच जारी करेगी.

महाराष्ट्र एटीएस प्रमुख राकेश मारिया ने हमले में किसी आत्मघाती हमलावर का हाथ होने की संभावना से भी इनकार किया है.

इस बीच मुंबई धमाकों में घायल दो और लोगों की मौत हो गई है. बुधवार को हुए तीन बम धमाकों में मारे गए लोगों की संख्या अब बढ़कर 19 हो गई है. अभी तक किसी भी गुट ने बम धमाकों की ज़िम्मेदारी नहीं ली है.

13 जुलाई की शाम को मुंबई में तीन जगहों – ज़वेरी बाज़ार, ओपेरा हाउस और दादर – में कुछ ही मिनटों के अंतराल पर बम धमाके हुए थे.

संबंधित समाचार