येदुरप्पा पर संकट के बादल

  • 25 जुलाई 2011
बीएस येदुरप्पा
Image caption येदुरप्पा जब से मुख्यमंत्री बने हैं वो विवादों में घिरे रहे हैं.

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदुरप्पा ने अपने पद से इस्तीफ़ा देने से इंकार किया है और कहा है कि उन्हें सभी विधायकों का समर्थन प्राप्त है.

येदुरप्पा ने कहा है कि लोकायुक्त की रिपोर्ट के बारे में वो शाम को प्रेस कांफ्रेस करेंगे और जानकारी देंगे.

अवैध खनन के मामले में लोकायुक्त संतोष हेगड़े की रिपोर्ट में येदुरप्पा समेत कई वरिष्ठ मंत्रियों पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगे हैं.

हालांकि येदुरप्पा का कहना था, ‘‘ मैं इस बारे में शाम को प्रेस कांफ्रेंस करुंगा और बताऊंगा. लोकायुक्त ने फोन टैपिंग की जो बात कही है. उससे मैं बेहद चिंतित हूं. इसकी जांच करनी ज़रुरी है.’’

लोकायुक्त की रिपोर्ट कुछ दिन पहले लीक हो चुकी है और उसके बाद से ही विपक्षी दलों की मांग है कि येदुरप्पा पद से इस्तीफ़ा दें.

भारतीय जनता पार्टी में भी येदुरप्पा को लेकर असमंजस की स्थिति है. पार्टी पूर्व में केंद्र सरकार को भ्रष्टाचार के मामले पर घेर चुकी है और भ्रष्टाचार के आरोपों में घिरे नेताओं के इस्तीफ़े की मांग करती रही है.

ऐसे में पार्टी के सामने भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरे येदुरप्पा का बचाव कैसे करे.

उधर येदुरप्पा ने मारीशस से लौटने के बाद तेवर अभी तक कड़े रखे हैं और पद से इस्तीफ़ा देने के किसी भी सवाल को तवज्जो नहीं दी है.

इस बीच कई विधायक मुख्यमंत्री से मिलने उनके निवास पर भी पहुंचे हैं.

कर्नाटक विधानसभा में बीजेपी के 121 विधायक हैं और पार्टी पिछले तीन वर्षों से सत्ता में है लेकिन येदुरप्पा की सरकार शुरु से ही विवादों और परेशानियों में घिरी रही है.

संबंधित समाचार