सीरिया को अल-ज़वाहिरी का संदेश

अल-ज़वाहिरी इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption अल-ज़वाहिरी को जून में ही अल-क़ायदा प्रमुख चुना गया है

अल-क़ायदा के नए प्रमुख अयमन अल-ज़वाहिरी ने सीरिया में सरकार विरोधी प्रदर्शन कर रहे लोगों से कहा है कि वे अमरीका और इसराइल का भी विरोध करें.

गत बुधवार यानी 27 जुलाई को एक इस्लामिक वेबसाइट पर जारी किए गए एक वीडियो संदेश में अल-ज़वाहिरी ने इस बात के लिए अमरीका की निंदा की है कि वह प्रदर्शनकारियों का समर्थन कर रहा है.

इस वीडियो में अल-ज़वाहिरी ने कहा है, "राष्ट्रपति बशर अल-असद के पूरे कार्यकाल के दौरान अमरीका उनको समर्थन देता रहा लेकिन अब जब वह देख रहा है कि आपकी (प्रदर्शनकारियों की) नाराज़गी के भूकंप से उनकी ज़मीन हिल गई है तो अमरीका कह रहा है कि वह आपके साथ है."

इस वीडियो में इस्लामिक महिने की तारीख़ दी गई है जो अंग्रेज़ी महीने के अनुसार जून की तारीख़ है. यह वही समय था जब अल-ज़वाहिरी को अल-क़ायदा का नया प्रमुख चुना गया था.

मई में पाकिस्तान के ऐबटाबाद में अमरीकी कार्रवाई में अल-क़ायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन के मारे जाने के बाद उनकी नियु्क्ति हुई है.

संदेश

अपने वीडियो संदेश में अल-ज़वाहिरी ने प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए कहा है, "तोपों और टैंकों के गोलों और हैलिकॉप्टरों के सामने सीना तानकर आप लोग खड़े हुए हैं."

राष्ट्रपति बशर अल-असद के ख़िलाफ़ प्रदर्शन कर रहे लोगों से उन्होंने कहा, "उन दोनों (अमरीका और ओबामा) से कह दो कि हमारी नाराज़गी और हमारी बग़ावत तब तक शांत नहीं होगी जब तक हम अल्लाह की मर्ज़ी से यरुशलम के जबार अल मुकब्बिर में जीत का परचम नहीं फ़हरा लेते."

जबार अल मुकब्बिर दक्षिण पूर्वी यरुशलम में वो विवादित इलाक़ा है जहाँ फ़लस्तीनियों की बड़ी आबादी रहती है लेकिन अब वहाँ इसराइली अपनी बस्ती बसाना चाहते हैं.

इस संदेश में अल-ज़वाहिरी सफ़ेद कपड़े और पगड़ी पहने हुए थे और उनकी बंदूक उनकी बगल में रखी हुई थी.

ये पता नहीं हैं कि इस समय अल-ज़वाहिरी कहाँ हैं लेकिन ये लंबे समय से माना जाता रहा है कि वे अफ़ग़ानिस्तान-पाकिस्तान की सीमा पर किसी स्थान पर छिपे हुए हैं.

उन पर अमरीका ने 2.5 करोड़ डॉलर यानी सौ करोड़ रुपए से अधिक की राशि का ईनाम घोषित कर रखा है.

अल-क़ायदा का प्रभाव

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption सीरिया में प्रदर्शनों के बाद सरकार ने कई बदलावों की घोषणा की है लेकिन प्रदर्शन जारी है

ट्यूनिशिया और मिस्र में सत्ता परिवर्तनों के बाद चार महीने पहले सीरिया में सरकार विरोधी प्रदर्शन शुरु हुए थे.

इन प्रदर्शनों में अल-क़ायदा का प्रभाव के बहुत थोड़े से प्रमाण हैं.

हालांकि सीरिया के विदेश मंत्री वालिद अल-मुआलेम ने कहा है कि कुछ पुलिस और सेना के जवानों की हत्या से संकेत मिलता है कि हिंसा के पीछ अल-क़ायदा का हाथ हो सकता है.

पिछले चार महीनों में अमरीका ने प्रदर्शनकारियों पर की गई ज़्यादतियों की हमेशा निंदा की गई.

जुलाई के शुरुआत में ही सीरियाई शहर हामा में अमरीकी राजदूत ने जाकर प्रदर्शनकारियों के प्रति समर्थन भी जताया था.

संबंधित समाचार