येदियुरप्पा ने राज्यपाल को सौंपा इस्तीफ़ा

  • 31 जुलाई 2011
येदियुरप्पा इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption बीएस येदियुरप्पा पसंद का मुख्य मंत्री चयन किए जाने की मांग कर रहे हैं.

कर्नाटक के मुख्यमत्री बीएस येदियुरप्पा ने आखिरकार राज्यपाल को अपना इस्तीफ़ा सौंप दिया है. वो इस्तीफ़ा देने राजभवन तक पैदल गए.

अपना इस्तीफ़ा राज्यपाल को सौंपने के बाद येदियुरप्पा ने बाहर निकल कर मीडिया के सामने एक बयान पढ़ा.

येदियुरप्पा ने अपने ऊपर लगे तमाम आरोपों का खंडन किया और कहा कि वो पार्टी के लिए काम करते रहेंगे.

येदियुरप्पा ने कहा कि उन्होंने पार्टी के अनुशासन की नीति का पालन किया है और पार्टी के आदेश का पालन करते हुए बिना किसी हिचकिचाहट के इस्तीफ़ा दिया है.

उन्होंने कहा कि वो राज्य भर में घूमघूमकर लोगों के सामने अपनी बात रखेंगे.

इससे पहले येदियुरप्पा ने अपना त्यागपत्र पार्टी अध्यक्ष नितिन गडकरी को भेज दिया था.

पार्टी के मीडिया प्रभारी श्रीकांत शर्मा की ओर से पत्रकारों को भेजे गए मोबाईल संदेश में कहा गया है कि कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने आज सुबह साढ़े सात बजे अपना त्यागपत्र पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गड़करी को भेज दिया है.

पार्टी का कहना है कि युदियरप्पा ने अपना त्यागपत्र पार्टी अध्यक्ष को फ़ैक्स के ज़रिए से भेजा है.

ख़बरें है कि कर्नाटक के मुख्यमंत्री औपचारिक तौर पर अपना त्यागपत्र राज्यपाल हंसराज भारद्वाज को दोपहर बाद सौंपेगे.

दक्षिण भारत में भारतीय जनता पार्टी की सरकार के पहले मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा को राज्य में खनन घोटाले में सीधे उनका नाम आने पर त्यागपत्र देना पड़ा है.

हालांकि वो आख़िरी वक़्त तक इस्तीफ़ा देने से मना करते रहे थे लेकिन पार्टी की केंद्रीय इकाई ने उन पर दबाव बनाया कि उनके पास अब इसके अलावा कोई चारा नहीं है.

चंद दिनों पहले सरकार को सौंपे गए राज्य के लोकायुक्त ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि अवैध खनन के मामले में मुख्य मंत्री दोषी हैं.

लोकोयुक्त ने कहा है कि अवैध खनन से ख़ज़ाने को 16,000 करोड़ से अधिक का नुक़सान हुआ है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार