सोपोर में तीसरे दिन भी हड़ताल

सोपोर (फ़ाइल)

पुलिस हिरासत में कथित रुप से एक नौजवान नाज़िम रशीद के मारे जाने के विरोध में भारत प्रशासित कश्मीर के सोपोर क़स्बे में तीसरे दिन भी हड़ताल जारी है.

दूसरी तरफ़ हुर्रियत नेता सैयद अली शाह गिलानी ने बुधवार को पूरी घाटी में बंद का आह्लान किया है.

श्रीनगर में जारी एक बयान में गिलानी ने कहा कि राज्य में मार्शल-लॉ जैसे हालात हैं और मासूम कश्मीरी नौजवानों को झूठे मामलों में फंसा कर जेल भेजा जा रहा है.

उन्होंने लोगों से अपील की है कि वो हड़ताल का पालन करें और अंतरराष्ट्रीय समुदाय को ये दिखा दें कि ताक़त की ज़ोर पर कश्मीरियों के आत्मनिर्णय के हक़ को नहीं दबाया जा सकता है.

आरोप है कि पूर्व पुलिस इंस्पेक्टर के बेटे नाज़िम रशीद को पुलिस की विशेष शाखा ने ग़िरफ़्तार किया था और कथित तौर पर पूछताछ के दौरान ही उसकी मौत हो गई थी.

जांच दल

सोमवार को जारी किए गए एक आधिकारिक बयान में कहा गया था कि राज्य की सरकार ने 28-वर्षीय नौजवान की मौत की जांच के लिए बारामुला के डिप्टी कमिश्नर की अध्यक्षता में एक जांच दल का गठन किया है.

राज्य की हुकुमत ने तीन पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया है जबकि सोपोर में मौजूद डिप्टी सुपरिटेंडेंट आशिक हुसैन टाक का तबादला कर दिया गया है.

मुख्य मंत्री उमर अब्दुल्लाह ने कहा है कि जांच समीति से कहा गया है कि वो अपनी रिपोर्ट जल्द से जल्द पुलिस को सौपे.

इस बीच राज्य में इस मामले पर राजनीति गरमाती जा रही है.

सोमवार को पुलिस ने विपक्षी पीडीपी की नेता महबूबा मुफ़्ती को सोपोर जाने से रोक दिया था.

बीबीसी संवाददाता रियाज़ मसरूर का कहना है कि राज्य के हाल ही में पहली बार भारत समर्थक किसी गुट को घटनास्थल पर जाने से रोका गया है.

संबंधित समाचार