जहाज़ से तेल का रिसाव शुरु

तेल, जहाज़
Image caption रक्षा मंत्रालय के मुताबिक तेल सात नॉटिकल मील तक फ़ैल गया है

इंडोनीशिया से भारत आ रहे जहाज़ एमवी रैक कैरियर के मुंबई तट के पास डूबने के बाद उसमें से तेल निकलना शुरू हो गया है.

रक्षा मंत्रालय के एक प्रवक्ता के मुताबिक इस जहाज़ से हर घंटे डेढ़ से दो टन तेल बाहर निकल रहा है. एक अनुमान के मुताबिक इस जहाज़ में करीब 350 टन ईंधन है.

समुद्र में तेल गिरने की पुष्टि के बाद अब पर्यावरण पर होने वाले खतरे की बात होने लगी है.

एमवी रैक गुरूवार को डूबा था और भारतीय कोस्टगार्ड ने जहाज़ से 30 नाविकों को बचा लिया था.

भारतीय कोस्टगार्ड के एक प्रवक्ता ने बीबीसी को बताया कि कोस्टगार्ड के कई जहाज़ कोशिश कर रहे हैं कि तेल के फ़ैलने को रोका जाए और उसके असर को खत्म किया जाए.

स्थानीय कोस्टगार्ड जहाज़ समुद्र प्रहरी इसी काम में गया हुआ है. तेल के असर पर काबू पाने के लिए कोस्टगार्ड ने ‘ऑपरेशन सुरक्षा – 2/2011’की शुरुआत की है.

समुद्र प्रहरी की मदद के लिए एक और जहाज़ आईसीजीएस संकल्प की मदद ली गई है.

रक्षा मंत्रालय के मुताबिक तेल सात नॉटिकल मील तक फ़ैल गया है.

अधिकारियों से कहा गया है कि वो मछुआरों को उस इलाके में जाने से मना करें.

एमवी रैक 60,000 टन कोयला लेकर इंडोनीशिया के टुटांग से गुजरात के दहेज आ रहा था.

इस जहाज़ में इंडोनीशिया, जॉर्डन और रोमानिया के लोग सवार थे.

जहाज़ के कैप्टन और रोमानियन चीफ़ इंजीनियर को पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया था.

संबंधित समाचार