रामलीला मैदान तैयार होने पर ही तिहाड़ छोड़ेंगे अन्ना

अन्ना समर्थक इमेज कॉपीरइट Reuters

सरकारी लोकपाल विधेयक के ख़िलाफ़ अनशन कर रहे सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हज़ारे अब रामलीला मैदान में अनशन करेंगे. दिल्ली पुलिस ने उन्हें 15 दिनों के अनशन की अनुमति दे दी है.

लेकिन रामलीला मैदान अभी तैयार नहीं है और उसमें कींचड़ भरा हुआ है. अन्ना हज़ारे के सहयोगियों का कहना है कि मैदान पूरी तरह तैयार हो जाने के बाद ही अन्ना तिहाड़ जेल से बाहर निकलेंगे.

अन्ना हज़ारे की टीम में शामिल अरविंद केजरीवाल ने पत्रकारों के साथ बातचीत में कहा कि अन्ना हज़ारे के स्वास्थ्य की जाँच होगी.

उन्होंने कहा कि रामलीला मैदान में अभी कींचड़ है और अधिकारी इसे ठीक करने की कोशिश कर रहे हैं.

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि ऐसा हालात में गुरुवार को रामलीला मैदान में जाना मुश्किल लग रहा है, लेकिन स्थितियाँ ठीक हुईं, तो आज भी अन्ना रामलीला मैदान में जा सकते हैं.

उन्होंने बताया कि अन्ना हज़ारे का स्वास्थ्य बिल्कुल ठीक है. पत्रकारों के एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, "अभी आगे लंबी लड़ाई बाक़ी है, अभी तो ये बस शुरुआत की."

'सरकार झुकी'

अरविंद केजरीवाल ने कहा, "हमने ये तो नहीं कहा कि आप संसद में बात नहीं कर करते. हम तो सिर्फ़ जनलोकपाल मसौदे को संसद में पेश करना चाहते हैं, जिस पर कम से कम चर्चा तो हो. सरकार ने तो ऐसा विधेयक पेश किया है, जो भ्रष्टाचारियों को संरक्षण देता है."

16 अगस्त के पूरे घटनाक्रम का ब्यौरा देते हुए उन्होंने कहा कि पहले उन लोगों को गिरफ़्तार किया, फिर न्यायिक हिरासत में भेजा और फिर रिहा करने की बात करने लगे. अरविंद केजरीवाल ने कहा कि सरकार स्पष्ट करे कि वे बार-बार अपना रुख़ क्यों बदलती रही.

उन्होंने कहा कि सरकार को जनता के आगे, जन भावनाओं के आगे झुकना होगा. उन्होंने देशवासियों का आभार जताया कि प्रदर्शन शांतिपूर्ण रहे हैं.

उन्होंने बताया कि दिल्ली पुलिस ने बातचीत के बाद 15 दिनों के अनशन का प्रस्ताव मिला था, जिसे अन्ना हज़ारे ने स्वीकार कर लिया था. अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अन्ना का अनशन जारी है.

इस बीच तिहाड़ जेल के बाहर बड़ी संख्या में लोगों का पहुँचना जारी है. रातभर लोगों ने तिहाड़ के बाहर नारेबाज़ी की. वहाँ मौजूद लोगों का कहना है कि वे अन्ना के साथ ही रामलीला मैदान में जाएँगे.

दूसरी ओर केंद्रीय गृह सचिव आरके सिंह का कहना है कि अनशन की जगह, शर्तें और अवधि का फ़ैसला अन्ना हज़ारे की टीम और दिल्ली पुलिस ने मिलकर किया है.

संबंधित समाचार