जगन के घरों और दफ़्तरों पर छापे

जगन मोहन रेड्डी
Image caption जगन मोहन ने कडप्पा लोकसभा के लिए चुनाव से पहले 450 करोड़ रुपए की संपत्ति घोषित की

केंद्रीय जाँच ब्यूरो ने वाईएसआर कांग्रेस के अध्यक्ष जगन मोहन रेड्डी के घर और बिज़नेस से जुड़े 23 ठिकानों पर गुरुवार को छापे मारे हैं.

इनमें हैदराबाद और बंगलौर में जगन के घरों के अलावा जगन के मालिकाना हक़ वाले तेलुगू अख़बार साक्षी के कार्यालय और उनकी कंपनी भारती सीमेंट्स के दफ़्तरों पर छापे शामिल हैं.

साथ ही सीबीआई ने दुबई स्थित एक कंपनी एमार प्रॉपर्टीज़ के विरुद्ध पाँच हज़ार करोड़ रुपए के घोटाले में मामला दर्ज किया है. बताया जाता है कि आंध्र सरकार ने इस कंपनी को गोल्फ़कोर्स और रिहायशी इमारतें बनाने के लिए 585 एकड़ ज़मीन दी थी.

आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय ने सीबीआई को निर्देश दिया था कि भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम और पैसे के हेर-फ़ेर से जुड़े अधिनियम के तहत जगन मोहन के विरुद्ध आपराधिक मामला दर्ज किया जाए.

इसके बाद सीबीआई ने बुधवार को इस मामले में एक एफ़आईआर दर्ज की थी जिसमें जगन को प्रमुख अभियुक्त बनाया गया था. जगन के अलावा कई अन्य लोगों के नाम भी इस सूची में हैं.

बड़ी कार्रवाई

आंध्र प्रदेश के इतिहास में सीबीआई की सबसे बड़ी कार्रवाई में जगन के अलावा उनके बिज़नेस में निवेश करने वालों के ठिकानों पर भी छापे मारे जा रहे हैं.

यही वजह है कि छापे सिर्फ़ आंध्र प्रदेश तक ही सीमित नहीं हैं. कोलकाता, राँची और हावड़ा में भी सीबीआई छापे मार रही है.

केंद्रीय जाँच ब्यूरो के संयुक्त निदेशक वीवी लक्ष्मीनारायण ख़ुद इन छापों का नेतृत्त्व कर रहे हैं.

हैदराबाद स्थित जगन मोहन के घर पर सीबीआई के तीन जाँच दल मौजूद हैं और घर की वीडियोग्राफ़ी भी की जा रही है.

कांग्रेस के एक मंत्री पी शंकर राव के अलावा तेलुगुदेशम् के तीन नेताओं ने जगन के विरुद्ध उच्च न्यायालय में मामला दर्ज किया था.

उच्च न्यायालय के निर्देश पर सीबीआई ने जाँच रिपोर्ट दाख़िल की थी और तब न्यायालय ने कहा था कि प्राथमिक तौर पर लगता है कि जगन की कंपनियों में अवैध तरीक़े से पैसा लगा है और पता लगाया जाना चाहिए कि ये पैसा आया कहाँ से है.

जगन मोहन 51 कंपनियों के मालिक हैं और आरोपों के अनुसार वाईएस राजशेखर रेड्डी जब मुख्यमंत्री थे तो उनकी सरकार ने जिन कंपनियों को फ़ायदा पहुँचाया उन्होंने फ़ायदे के बदले जगन की कंपनियों में पूँजी निवेश किया.

संपत्ति

जगन की संपत्ति 2004 में 11 लाख रुपए थी और इस साल उन्होंने कडप्पा लोकसभा उपचुनाव के दौरान दायर शपथ पत्र में अपनी और पत्नी की संपत्ति 450 करोड़ रुपए घोषित की.

वैसे पी शंकर राव का दावा है कि जगन के पास 43 हज़ार करोड़ रुपए की संपत्ति है.

जगन देश के सर्वाधिक अमीर सांसदों में से एक हैं और आंध्र प्रदेश के वह सबसे अमीर सांसद हैं. बताया जाता है कि बंगलौर के बाहरी इलाक़े में स्थित जगन मोहन का घर किसी महल जैसा है और वह कई एकड़ में फैला है.

इन छापों के लिए सीबीआई ने बड़े पैमाने पर तैयारी की थी जिसके तहत बंगलौर, विशाखापट्टनम् और चेन्नई से अधिकारियों को बुलाया गया है.

वाईएसआर कांग्रेस और ख़ुद जगन मोहन रेड्डी ने इसे राजनीतिक बदले की भावना से की गई कार्रवाई बताया है. उनके अनुसार उनके प्रभाव को रोकने के लिए ये कोशिश की जा रही है.

संबंधित समाचार