बिहार की बाढ़ में 30 की मौत

बिहार बाढ़ (फ़ाइल फोटो)
Image caption कई ज़िलों में स्थिति गंभीर है

बिहार के 11 ज़िलों में बाढ़ की स्थिति गंभीर हो गई है और ख़ासकर गंगा नदी की बाढ़ ने राज्य के भागलपुर ज़िले में भारी तबाही मचाई है.

कहलगांव में गंगा अबतक के अपने उच्चतम जल-स्तर को छू रही है और नौगछिया का इलाक़ा सबसे अधिक प्रभावित हुआ है.

राज्य के आपदा प्रबंधन विभाग के अनुसार इस बार अब तक बाढ़ जनित दुर्घटनाओं में 30 लोग मारे जा चुके है.

गंगा के बाद बिहार की गंडक और बागमती नदियों की बाढ़ से ज़्यादा नुकसान हुआ है और कोसी नदी भारी उफान के बावजूद फ़िलहाल नियंत्रण में है.

गंभीर स्थिति

विभागीय प्रधान सचिव व्यासजी मिश्र ने बताया, ''राज्य में बाढ़ के सिलसिले में जून की पहली तारीख़ से लेकर 23 अगस्त तक लगभग 90 करोड़ रूपए मूल्य की फसल, मकान और सार्वजानिक संपत्ति की क्षति हुई है. साथ ही बाढ़ की लपेट में अब तक आई हुई 21 लाख की आबादी वाले क्षेत्रों में बतौर राहत 9000 क्विंटल अनाज बांटे जा चुके हैं.''

राज्य के सबसे अधिक बाढ़ प्रभावित ज़िले है- भागलपुर, वैशाली, सारण, भोजपुर, खगडिया, बेगुसराय, कटिहार, पूर्णिया, मधुबनी, पटना और मधेपुरा.

हालांकि बिहार में वर्षा इस बार सामान्य से सिर्फ पांच प्रतिशत ज़्यादा यानी 754.7 प्रतिशत हुई है, लेकिन गंगा नदी में यहाँ कई सालों के बाद आई ऐसी उफनती बाढ़ ने हालात गंभीर बना दिए हैं.

उधर विभिन्न नदियों के कटाव और तेज़ जलप्रवाह की चपेट में आई बस्तियों से बड़ी तादाद में बेघर हुए परिवारों ने आस-पास की ऊंची जगहों पर शरण ली है.

संबंधित समाचार