यशवंत-शत्रुघ्न ने पार्टी को घेरा

  • 24 अगस्त 2011
शत्रुघ्न सिन्हा
Image caption शत्रुघ्न सिन्हा ने भी पार्टी की आलोचना की है

अपनी पार्टी पर भ्रष्टाचार के मामले को गंभीरता से न लेने का आरोप लगाते हुए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के तीन सांसदों ने त्यागपत्र देने की पेशकश की है.

दिल्ली में भाजपा संसदीय दल की बैठक में यशवंत सिन्हा, शत्रुघ्न सिन्हा और उदय सिंह ने भ्रष्टाचार के मुद्दे पर पार्टी पर ही सवाल उठाए.

यशवंत सिन्हा हज़ारीबाग से, शत्रुघ्न सिन्हा पटना साहिब से और उदय सिंह पुर्णिया से सांसद हैं.

भाजपा संसदीय दल की बैठक संसद के जारी सत्र के दौरान रणनीति तय करने और लोकपाल पर होने वाली सर्वदलीय बैठक पर चर्चा के लिए बुलाई गई थी.

अपील

इस बैठक की अध्यक्षता लालकृष्ण आडवाणी ने की. यशवंत सिन्हा ने कहा कि पार्टी लोकपाल के मुद्दे पर मज़बूत रुख़ नहीं अपना रही है, जो भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ लड़ाई को आगे ले जाने के लिए ज़रूरी है.

भाजपा संसदीय दल की बैठक में अन्ना हज़ारे के स्वास्थ्य पर चिंता जताई गई और उनसे अनशन ख़त्म करने की अपील की गई.

शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि भाजपा अन्ना हज़ारे के मुद्दे पर स्पष्ट रुख़ अपनाने की बजाए सिर्फ़ बात बनाने में लगी है और कांग्रेस को 'पंचिंग बैग' की तरह इस्तेमाल कर रही है.

हालाँकि वरिष्ठ भाजपा नेता एसएस अहलूवालिया ने यशवंत सिन्हा की पेशकश पर सवालों को ज़्यादा अहमियत नहीं दी और कहा कि बैठक में कई विचार आते हैं, लेकिन आख़िरकार बैठक में पारित प्रस्ताव ही मायने रखता है.

संबंधित समाचार