खाद्य पदार्थों की महंगाई फिर बढ़ी

  • 25 अगस्त 2011
सब्ज़ी विक्रेता इमेज कॉपीरइट AP
Image caption आलू और प्याज़ के दाम बढ़े हैं लेकिन हरी सब्जियों के दाम घटे हैं

भारत में खाद्य पदार्थों की महंगाई दर एक बार फिर दोहरे अंकों तक पहुँचने के क़रीब है.

गत 13 अगस्त को समाप्त हुए सप्ताह में खाद्य पदार्थों की महंगाई दर 9.80 प्रतिशत तक पहुँच गई थी.

इससे पहले हफ़्ते में महंगाई की दर 9.03 प्रतिशत थी. लेकिन एक साल पहले, यानी 2010 में अगस्त के इसी हफ़्ते में खाद्य पदार्थों की महंगाई दर 14.56 थी.

आलू-प्याज़ महंगे

विश्वेषकों का कहना है कि प्याज़, आलू, फल और प्रोटीनयुक्त पदार्थों की क़ीमतों में बढ़ात्तरी की वजह से महंगाई में बढ़ोत्तरी हुई है.

गुरुवार को सरकार की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, 13 अगस्त को ख़त्म हुए हफ़्ते में प्याज़ की दर में 44 प्रतिशत जबकि आलू की क़ीमतों में 16.39 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई.

इसी हफ़्ते के दौरान फलों की क़ीमतों में 27.01 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई जबकि अंडे, मांस और मछली की क़ीमतों में 13.37 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई. दूध 9.51 प्रतिशत महंगा हुआ लेकिन सब्ज़ियाँ और दालों की क़ीमतों में 6.52 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है.

आंकड़ों के अनुसार ग़ैर खाद्य सामग्रियों, जिसमें फ़ाइबर, तेल, बीज और खनिज शामिल है, महंगाई की दर 17.80 प्रतिशत रही. जबकि इससे पहले के हफ़्ते में महंगाई की दर 16.07 प्रतिशत थी.

जबकि ईंधन और बिजली की महंगाई दर 13.13 प्रतिशत पर स्थिर रही.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार