लोकायुक्त अदालत में पेश हुए येदियुरप्पा

  • 29 अगस्त 2011
येदियुरप्पा इमेज कॉपीरइट BBC World Service

कर्नाटक उच्च न्यायालय में अग्रिम ज़मानत की याचिका ख़ारिज होने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के विरुद्ध आरोपों की लोकायुक्त अदालत में सुनवाई सात सितंबर को तय हुई है.

येदियुरप्पा दोपहर बाद लोकायुक्त की विशेष अदालत के समक्ष पेश हुए. अब लोकायुक्त पुलिस से कहा गया है कि अगर उन्हें येदियुरप्पा की ज़मानत पर कोई आपत्ति हो तो उसे सात सितंबर तक दाख़िल कर दें.

लोकायुक्त ने मामले की अगली सुनवाई सात सितंबर को तय की है.

इससे पहले सोमवार को ही कर्नाटक हाई कोर्ट ने उनकी अग्रिम ज़मानत की अर्ज़ी खारिज कर दी थी.

इससे पहले एक बार उन्हें स्वास्थ्य कारणओं से स्वयं अदालत में पेश न होने की छूट मिल चुकी है. जज एनके सुधीद्रं राव ने येदियुरप्पा की अर्ज़ी के बाद इसकी छूट दी थी. उन्हें शनिवार को अस्पताल में भर्ती करवाया गया था

अदालत ने एक शिकायत के बाद आठ अगस्त को येदियुरप्पा और 14 अन्य के ख़िलाफ़ समन जारी किए थे.

शिकायत ये थी कि येदियुरप्पा ने कथित तौर पर बंगलौर विकास प्राधिकरण (बीडीए) द्वारा ज़मीन अधिग्रहण की अधिसूचना को रद्द करने में अनियमितता बरती. इन 14 लोगों ने अदालत में पेशी दी और ज़मानत की अर्ज़ी दाखिल की है.

भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद जुलाई में येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफ़ा देना पड़ा था. कर्नाटक के लोकायुक्त ने अवैध खनन पर पेश की गई अपनी रिपोर्ट में येदियुरप्पा और उनके परिजनों पर भ्रष्टाचार में लिप्त होने के आरोप लगाए थे और कहा था कि उन्होंने अपनी रिपोर्ट में इसके पर्याप्त सबूत दिए हैं.

लोकोयुक्त ने कहा है कि अवैध खनन से ख़ज़ाने को 16,000 करोड़ से अधिक का नुक़सान हुआ है.

संबंधित समाचार