'महंगाई से दस गुनी बड़ी समस्या है भ्रष्टाचार'

अन्ना हज़ारे इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption अन्ना हज़ारे के आह्वान पर भ्रष्टाचार पर देश के बहुत से हिस्से में आंदोलन हुए

भारत में महंगाई की तुलना में दस गुना लोग भ्रष्टाचार को देश की सबसे बड़ी समस्या है.

वेबदुनिया की ओर से करवाए गए एक ऑनलाइन सर्वेक्षण के अनुसार 8.96 प्रतिशत लोग महंगाई को बड़ी समस्या मानते हैं जबकि 82.71 प्रतिशत लोग भ्रष्टाचार को बड़ा मुद्दा मानते हैं.

इस सर्वेक्षण में भाग लेने वाले लोगों में से 71.10 प्रतिशत लोग मानते हैं कि संसद में टीम अन्ना का जनलोकपाल बिल पारित किया जाना चाहिए.

जबकि लगभग 80 प्रतिशत लोग मानते हैं कि जनलोकपाल के लागू होने से देश में भ्रष्टाचार 60 से 80 प्रतिशत तक कम हो सकता है.

सर्वेक्षण

बहुभाषी पोर्टल वेबदुनिया ने 16 से 27 अगस्त के बीच ऑनलाइन सर्वेक्षण से सात विषयों पर सवाल पूछे.

ये सर्वेक्षण हिन्दी, तमिल, तेलुगू, कन्नड़, मलयालम, मराठी और गुजराती भाषा में करवाया गया था और इसमें 25 हज़ार लोगों ने हिस्सा लिया.

जिस दौरान ये सर्वेक्षण करवाया गया उस समय अन्ना हज़ारे का आंदोलन चल रहा था.

देश की बड़ी समस्याओं के बारे में भ्रष्टाचार और महंगाई के बाद बेरोज़गारी (3.95 प्रतिशत), अशिक्षा (2.85 प्रतिशत) और आतंकवाद (1.09 प्रतिशत) को बड़ी समस्या मानते हैं.

हालांकि अन्ना हज़ारे अपने आंदोलन को आज़ादी की दूसरी लड़ाई कहते रहे हैं लेकिन सर्वेक्षण में भाग लेने वाले सिर्फ़ 24.48 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वे इसकी तुलना आज़ादी की लड़ाई से करते हैं. 45.57 प्रतिशत लोगों ने अन्ना के आंदोलन की तुलना सत्याग्रह से की.

कुल 42.17 प्रतिशत लोगों ने माना कि जनलोकपाल बिल के पारित होने से देश में भ्रष्टाचार 80 प्रतिशत तक कम हो सकता है और 37.58 प्रतिशत लोगों ने माना कि भ्रष्टाचार 60 प्रतिशत तक कम हो सकता है.

इस सर्वेक्षण में भाग लेने वालों में आधे से ज़्यादा लोगों को अन्ना के आंदोलन पर सरकार के रवैए से आपातकाल की परिस्थिताँ याद आईं.

संबंधित समाचार