'बीमारी के नाम पर छुट्टी लेते हैं भारतीय'

कॉल सेंटर

बीमारी के नाम पर चीन और भारत में काम करने वाले लोग सबसे ज़्यादा छुट्टी लेते हैं.

एक सर्वेक्षण के मुताबिक इन देशों में नौकरीपेशा लोग कई बार बीमार न होने के बावजूद जमकर 'सिक लीव' यानी बीमारी के नाम पर छुट्टी लेते हैं.

इस मामले में चीन के बाद दूसरे नंबर पर भारत का स्थान है.

आस्ट्रेलिया की फर्म क्रोनोस ने इस विषय पर एक ऑनलाईन सर्वेक्षण करवाया था जिसमें ये तथ्य सामने आए हैं.

भारत के अलावा ऑस्ट्रेलिया, चीन, फ्रांस, ब्रिटेन, मैक्सिको और अमरीका में भी ये सर्वेक्षण जुलाई के महीने में करवाया गया था.

इस सर्वेक्षण में कहा गया है कि 'सिक लीव' लेने की वज़ह लोग सबसे ज़्यादा तनाव को बताते हैं. उन्होंने सुझाव दिया है कि कंपनियों के प्रबंधन इस संबंध में कुछ उपाय कर सकते हैं.

सुझाव है कि कंपनियां कर्मचारियों में तनाव के कारणों का पता लगाकर इसका व्यावहारिक समाधान ख़ोज सकते हैं.

अलग-अलग कारण

चीन में 71 फीसदी नौकरीपेशा लोगों का कहना था कि उन्होंने बीमार न होने के बावजूद छुट्टी ली है वहीं भारत में 62 फीसदी और ऑस्ट्रेलिया में 58 फीसदी लोगों ने ऐसा किया. फ्रांस में 16 फीसदी तो मैक्सिको में 38 फीसदी लोगों ने 'सिक लीव' ली.

ब्रिटेन इस तालिका में थोडी नीचे है जहाँ 43 फीसदी लोगों ने 'सिक लीव' ली.

इस सर्वेक्षण में पाया गया कि जिन नौकरीपेशा लोगों को वेतन में बिना कटौती के छुट्टी यानी पेड लीव ज़्यादा मिलती हैं वह बीमारी का बहाना बनाकर कम छुट्टी लेते है बनिस्पत उन देशों के लोगों को जिन्हें ऐसी छुट्टिया कम मिलती है.

सभी लोगों ने सिक लीव लेने के अलग-अलग कारण दिए.

सर्वेक्षण कहता है कि इनमें से एक तिहाई अपने बीमार बच्चे या परिजन के लिए सिक लीव लेते हैं जबकि दस फीसदी काम का बहुत ज़्यादा तनाव होने की वज़ह से सिक लीव लेते हैं.

संबंधित समाचार