'ये सही है कि मैं जुनूनी हूँ'

  • 3 सितंबर 2011
अरविंद केजरीवाल
Image caption अरविंद केजरीवाल को विशेषाधिकार हनन का नोटिस भेजा गया है.

पूर्वी दिल्ली के पांडव नगर स्थित दफ़्तर में जब मैं पहुँचा तो अरविंद केजरीवाल एक कमरे की ज़मीन पर बैठे थे.

वो एक पत्रकार को साक्षात्कार दे रहे थे. दूसरे कमरे में एक चैनल के लोग रेकॉर्डिंग के लिए सेट तैयार कर रहे थे.

हर थोड़ी देर में खाँसते अरविंद ने बताया कि स्टैंडिंग कमेटी में पेश होने के लिए तैयारी करने के लिए वो 4 सितंबर से अंडरग्राउंड होने जा रहे हैं. पेश है उनसे की गई बातचीत के कुछ अंश.

सवाल: अब जबकि अन्ना का अनशन खत्म हो गया है, आपको देश भर से जन समर्थन मिला है, आगे का क्या रास्ता है?

जवाब: फ़िलहाल हम स्टैंडिंग कमेटी के पास जाएँगें और अपनी बातों को रखेंगे. हमे पूरी उम्मीद है कि स्टैंडिंग कमेटी जन लोकपाल बिल के जितने प्रस्ताव हैं, उनकी सिफ़ारिश संसद से करेगी. हमें ये आश्वासन दिया गया है कि अक्टूबर के अंत तक स्टैंडिंग कमेटी अपनी रिपोर्ट संसद को भेज देगी. और संसद के शीत सत्र में शायद इस पर चर्चा होगी.

लेकिन क्या भविष्य में आंदोलन को भ्रष्टाचार के मुद्दे तक ही सीमित रखना है?

जो लाखों लोग सड़कों पर उतरे, उनका सपना बड़ा था. वो एक अलग किस्म के भारत का सपना देखकर सड़कों पर उतरे थे. अन्ना जी ने कहा कि लोकपाल बिल के अलावा चुनाव सुधार, प्रतिनिधियों को वापस बुलाने का अधिकार, न्यायिक सुधार, इन सबको आंदोलन में शामिल किया जाएगा. इन सब बातों पर 10 और 11 सितंबर को रालेगाँव सिद्धि में कोर कमेटी की बैठक में फ़ैसला लिया जाएगा.

स्टैंडिंग कमेटी के सदस्यों पर आपकी टीम की ओर से टिप्पणी होती रही है.

स्टैंडिंग कमेटी में ऐसे सदस्य होने चाहिए जो बेदाग हों. क्योंकि अगर कोई दागदार व्यक्ति होता है तो वो कभी कोई सख्त कानून नहीं लाना चाहेगा. उसे हमेशा ये डर रहेगा कि अगर ऐसा कानून आ गया तो मैं जेल चला जाऊंगा.

दलित नेता उदित राज ने चौथा लोकपाल मसौदा स्टैंडिंग कमेटी को सौंपा है. उन्होंने दलित प्रतिनिधित्व की बात की है. कुछ दलित बुद्धिजीवियों ने आंदोलन को उच्च जाति का आंदोलन कहा है. मुसलमानों के एक वर्ग का मानना है कि उनका तबका भी कटा हुआ है.

हमारी उदित राज जी से मुलाकात हुई है. एक भ्रांति पैदा की गई कि हमारा आंदोलन संविधान के खिलाफ़ है. और इसलिए हम बाबा साहब अंबेडकर के खिलाफ़ हैं. और इसलिए हम दलितों के खिलाफ़ हैं. सारी बातें गलत थीं. ये राजनीतिक चाल है. आज भ्रष्टाचार से सबसे ज़्यादा दलित पीड़ित है. इस राजनीति से सबको चौकन्ना रहने की ज़रूरत है. मुसलमान भी बड़ी तादाद में आंदोलन में शामिल हुए. आमिर खान आए, बहुत सारे लोग आए जिन्होंने आंदोलन का साथ दिया. इससे बड़ा संयुक्त आंदोलन मैने तो कभी नहीं देखा है.

अन्ना हज़ारे का अनशन तोड़ने के लिए एक दलित और मुस्लिम बच्ची को बुलाना, क्या संदेश भेजना चाह रहे थे आप?

पिछली बार जब अप्रेल में आंदोलन हुआ था तो सर्व-धर्म प्रार्थना हुई थी. इसमें सभी धर्मों के धार्मिक गुरू आते थे और प्रार्थना किया करते थे. उस वक्त रोज़ा चल रहा था. मैं खुद पिछले कई सालों से दो-तीन दिन हमेशा रोज़ा रखता हूँ. सुंदर नगरी स्थित परिवर्तन के दफ़्तर में हम इफ़्तार करते रहे हैं. वो हमने यहाँ पर भी शुरू किया. राजनेताओं ने कड़वे बीज बोए जिसकी वजह से कुछ अच्छे लोग गलतफ़हमी का शिकार हुए. अंग्रेज़ों से ही उन्होंने बाँटो और राज करो की बात सीखी है.

या फिर इन वर्गों में डर था कि जिस संविधान ने उन्हें सालों सुरक्षा दी है, उसे ताकत के बल पर तोड़ने-मरोड़ने की कोशिश की जा रही है.

इस आंदोलन की वजह से संसद और संविधान को डर नहीं है, बल्कि उन भ्रष्टाचारियों को डर है जिन्होंने इस तरह की अफ़वाहें फ़ैलाई हैं.

कई लोगों का मानना है कि इस देश में समस्या कार्यान्वयन की है. कानून तो कई हैं.

मैं इससे असहमत हूँ. हमारे सारे कानून गड़बड़ हैं. आज सीबीआई को किसी भ्रष्टाचारी के खिलाफ़ एफ़आईआऱ दर्ज करने से पहले उसी से अनुमति लेनी पड़ती है. इस कानून को बदलना पड़ेगा.

ये सोच है कि टीम अन्ना के पीछे आप हैं, आपने फ़ैसले लिए, और अन्ना का इस्तेमाल किया गया. एक मैगज़ीन में आपके टीम सदस्य के हवाले से लिखा गया है कि आप जब अन्ना से मिलने गए, वहाँ आपने उनसे कहा कि महाराष्ट्र के गाँधी के बजाए आप अन्ना को देश का गाँधी बना देंगे.

ये गलत लेख है. मैं इसकी कड़ी निंदा करना चाहूँगा. मैने ऐसा कभी नहीं कहा. ऐसा बोलकर अन्ना जैसे बड़े कद के नेता को आप नीचे गिरा रहे हैं. मेरी उनसे मुलाकात पुरानी है, लेकिन सात-आठ महीने से घनिष्ठ संबंध हैं. ये सब बद्तमीज़ी की बाते हैं, गलत बाते हैं.

लेकिन जब पत्रकारवार्ता होती थी तो आप अन्ना के कान में कुछ कहते थे, तब शायद लोगों को ऐसा लगता हो.

अन्ना को कम सुनाई पड़ता है. मैं केवल सवाल को दोहराता हूँ. मैं उनके लिए सवालों का अनुवाद करता हूँ, और कुछ नहीं क्योंकि अन्ना मूलत: मराठी हैं. जितनी राजनीतिक समझ अन्ना की है, मैं उनके सामने पाँच प्रतिशत भी नहीं हूँ. इस आंदोलन के सभी फ़ैसले अन्ना ने लिए. इस बात के लिए हम अन्ना को सलाम करते हूँ. वो हमारे गुरू हैं, हमारे पिता के समान हैं.

किन परिस्थितियों में स्वामी अग्निवेश आपसे जुड़ें? उनके बारे में एक क्लिप भी आई है जिस पर बवाल हुआ है.

हम हमेशा से ही उनका सम्मान करते रहे हैं. अभी भी सम्मान करते हैं. टीवी पर आई क्लिप को देखकर हमें धक्का लगा. वो दुर्भाग्यपूर्ण है. उनकी अन्ना से किसी चीज़ को लेकर बात हुई थी. उन्होंने अन्ना से कहा कि वो आंदोलन छोड़कर जाना चाहते हैं. वो शायद सरकार से बातचीत करने वाली कमेटी में जाना चाहते थे और अन्ना जी ने कहा कि अभी उसकी ज़रूरत नहीं है. शायद उस पर वो ख़फ़ा हो गए. मुझे नहीं लगता कि स्वामी अग्निवेश से जुड़़ना कोई गलती थी.

इरोम शर्मीला सालों से अनशन कर रही हैं. उनकी तरफ़ से आंदोलन पर टिप्पणी की गई है. कश्मीर से आवाज़ें आ रही हैं कि आप वहाँ के मुद्दे उठाएँ.

इन सभी बातों पर कोर कमेटी की बैठक में चर्चा होगी. निजी तौर पर मुझे ईरोम शर्मीला का आंदोलन इमानदार लगता है. मैं निजी तौर पर उनका साथ देना चाहता हूँ.

लेकिन ऐसा क्यों कि 11 दिन के टीम अन्ना के आंदोलन का देश भर में इतना ज़्यादा प्रभाव हुआ जबकि सालों से शर्मीला का आंदोलन चल रहा है लेकिन देश ने उस पर उतना ध्यान नहीं दिया?

इसका काऱण शायद ये है कि उनका मुद्दा एक तबके, इलाके को प्रभावित करता है लेकिन भ्रष्टाचार देश के हर व्यक्ति को प्रभावित करता है. इसलिए ज़्यादा संख्या में लोग निकलकर आए. उत्तर-पूर्व में सभी लोग उनके साथ हैं.

आपके बारे में एक सोच है कि आप जुनूनी हैं और किसी की बात नहीं सुनते हैं.

ये सही है कि मैं जुनूनी हूँ. लेकिन ये बात सही नहीं है कि मैं किसी की बात नहीं सुनता हूँ. अगर ऐसा होता तो हमारे साथ कोई नहीं जुड़ता.

संबंधित समाचार