‘विकीलीक्स के मालिक को पागलखाने भेजो’

  • 6 सितंबर 2011
मायावती
Image caption मायावती का कहना है कि विधान सभा चुनाव नज़दीक होने की वजह से ऐसे 'नाटक' सामने आ रहे हैं.

विकीलीक्स के ताज़ा दस्तावेज़ों में उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री मायावती के बारे में छपी बातों का उन्होंने खंडन किया है और उन्हें बेबुनियाद बताया है.

विकीलीक्स दस्तावेज़ों पर व्यंग्य करते हुए मायावती ने कहा कि विकीलीक्स के मालिक पागल हो गए हैं और उनकी पार्टी की छवि को धूमिल करने के लिए ये दस्तावेज़ जारी किए गए हैं.

दरअसल विकीलीक्स के दस्तावेज़ में सामने आया था कि भारत में अमरीकी दूतावास ने उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती को 'अव्वल दर्जे की अति अहंकारी' बताया है जिन पर प्रधानमंत्री बनने की धुन सवार है.

अमरीकी कूटनयिकों की ओर से भेजे गए एक दस्तावेज़ के अनुसार "जब मायावती को सैंडिल की ज़रुरत थी तो उनका निजी विमान खाली मुंबई भेजा गया जिससे कि वह उनके पसंदीदा ब्रांड की सैंडिल ला सके."

अपना पक्ष साफ़ करने के लिए मायावती ने आज यूपी में एक प्रेस वार्ता बुलाई और विकीलीक्स पर कड़ा प्रहार करते हुए कहा, “ऐसा प्रतीत होता है कि विकीलीक्स का मालिक या तो पागल हो गया है, या फिर हमारे राजनीतिक प्रतिद्वंदियों के हाथों में खेल कर हमारी पार्टी की छवि को धूमिल करने के लिए इस किस्म की शरारतें कर रहा है. विकीलीक्स के मालिक के देश की सरकार से मैं आग्रह करती हूं कि उन्हें पागलखाने भेज दिया जाए और यदि वहां के पागलखाने में जगह न हो तो मैं उन्हें यहां आगरा के पागलखाने में भर्ती करने के लिए तैयार हूं.”

'बर्तन धोते हैं मंत्री'

विकीलीक्स के दस्तावेज़ों में कहा गया था कि मायावती ने खाना चखने के लिए लोगों की नियुक्ति की है जिससे कि कोई उन्हें खाने में ज़हर न दे सके.

इस पर टेलिविज़न पर प्रतिक्रिया देने वाले राजनेताओं की खिल्ली उड़ाते हुए मायावती ने कहा, “ऐसा लगता है कि विकीलीक्स के मालिक और ये राजनेता हमारी रसोई के बर्तन साफ़ करने आते हैं, तभी इन्हें इतनी जानकारी है. मुझे तो ऐसी कोई जानकारी नहीं. ऐसी घिनौनी हरकत करने वालों की मैं कड़े शब्दों में निंदा करती हूं.”

ताज़ा विकीलीक्स के दस्तावेज़ों में मायावती के दाहिनें हाथ माने जाने वाले बीएसपी सांसद सतीश चंद्र मिश्रा के बारे में भी कुछ विवादस्पद बातें सामने आईं.

दस्तावेज़ों के अनुसार उन्होंने अमरीकी अधिकारियों से कहा था कि मायावती भ्रष्ट किस्म की नेता हैं.

सतीश चंद्र मिश्रा का बचाव करते हुए मायावती ने कहा कि ऐसी ख़बरें आने के बाद अब वे उन्हें और ज़्यादा महत्तव देंगीं.

मायावती का कहना है कि उत्तर प्रदेश में विधान सभा चुनाव नज़दीक आ रहे हैं इसलिए ‘ऐसे नाटक तो होते ही रहेंगें और पार्टी के सदस्यों को ऐसी ख़बरों पर ध्यान देने की ज़रूरत नहीं.'

संबंधित समाचार