आडवाणी ने 'कहा मुझे भी जेल भेजो'

  • 8 सितंबर 2011
लालकृष्ण आडवाणी
Image caption आडवाणी ने कहा कि अगर उनके पूर्व सांसद दोषी हैं तो उन्हें भी गिरफ़्तार किया जाना चाहिए.

नोट के बदले वोट मामले में भारतीय जनता पार्टी के दो पूर्व सांसदों की गिरफ़्तारी पर गुरुवार को लोकसभा में ख़ूब हंगामा हुआ है.

वरिष्ठ भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी ने लोकसभा में कहा है कि अगर उनके दो पूर्व सांसद दोषी हैं तो उन्हें गिरफ़्तार किया जाना चाहिए.

नोट के बदले वोट मामले में दिल्ली की एक अदालत ने मंगलवार को पूर्व बीजेपी सांसदों, महावीर भगोड़ा और फ़ग्गन सिंह कुलस्ते न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल भेज दिया है.

पूर्व समाजवादी पार्टी नेता अमर सिंह को भी इसी मामले में जेल भेजा गया है. लोकसभा में 22 जुलाई 2008 के दिन यूपीए सरकार के ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव के दौरान भाजपा सांसद सदन के भीतर नोटों का गड्डियां लेकर आ गए थे.

उनका आरोप था कि सत्तारूढ़ गठबंधन इस धन का प्रयोग सांसदों को अपने पक्ष में करने के लिए कर रहा है.

'मुझे भी जेल में डालिए'

इस मामले में वरिष्ठ भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी के पूर्व सलाहकार सुधीन्द्र कुलकर्णी के ख़िलाफ़ भी सम्मन जारी किया गया था लेकिन वे अदालत में नहीं पहुँचे क्योंकि वे देश से बाहर हैं.

इन चारों के ही ख़िलाफ़ 'नोट के बदले वोट' मामले में दिल्ली पुलिस ने आरोप पत्र दाखिल किया था.

लालकृष्ण आडवाणी ने कहा, “मेरे दो साथी, जिन्होंने ईमारदारी से लोकतंत्र की सेवा की, उन्हें जेल भेजा गया है. जो कुछ वो कर रहे थे अगर मुझे लगता कि गलत है तो मैं उन्हें रोकता. और इसलिए मैं मानता हूं कि उन्होंने जो किया सही किया. मैं चिदंबरम जी से कहता हूं कि अगर वो दो अपराधी हैं तो मुझे भी जेल में डालिए.”

आडवाणी के इस बयान के बाद लोकसभा की कार्यवाही स्थगित कर दी गई.

संबंधित समाचार