सोनिया गांधी इलाज के बाद भारत लौटीं

सोनिया गांधी इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption सोनिया की ग़ैरमौजूदगी के कारण पार्टी को काफ़ी परेशानियों का सामना करना पड़ा.

इलाज कराने विदेश गई कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी भारत लौट आई हैं. वह गुरुवार की सुबह नई दिल्ली पहुंचीं. उनके साथ उनकी पुत्री प्रियंका गांधी और दामाद रॉबर्ट वाड्रा भी थे.

वह एक महीने से भी ज़्यादा दिनों तक देश से बाहर रहीं. कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद ये पहला मौक़ा था जब वह इतने लंबे समय तक देश से बाहर रहीं थीं.

सोनिया गांधी दो अगस्त को विदेश गई थीं और चार और पाँच अगस्त को उनकी सर्जरी हुई थी.

कांग्रेस पार्टी ने उनकी बीमारी के बारे में कुछ भी बताने से ये कहते हुए इनकार कर दिया था कि ये उनका निजी मामला है. इसलिए इस बात की कोई आधिकारिक जानकारी नहीं है कि उन्हें क्या बीमारी थी और ऐसी क्या ख़ास वजह थी कि उन्हें इलाज के लिए विदेश जाना पड़ा था.

'टीम'

सोनिया गांधी ने अपनी ग़ैरमौजूदगी में पार्टी के कामकाज के लिए एक चार सदस्यीय टीम का गठन किया था जिसमें उनके पुत्र और कांग्रेस महासचिव राहुल गाँधी के अलावा रक्षा मंत्री एके एंटनी, उनके राजनीतिक सचिव अहमद पटेल और कांग्रेस के मीडिया प्रभारी जनार्दन द्विवेदी शामिल थे.

जानकारों का मानना है कि इस दौरान ख़ासकर अन्ना के अनशन के समय पार्टी को उनकी अनुपस्थिति के कारण कई दिक्क़तों का सामना करना पड़ा था.

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भी कई बार सार्वजनिक तौर पर कहा था कि सोनिया गांधी के देश में नहीं रहने के कारण कई बार पार्टी को उनकी कमी खल रही थी.

यहां तक की समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष मुलायम सिंह ने भी एक बार लोकसभा में कहा था कि संसद में सोनिया की कमी उन्हें काफ़ी खल रही है.

संबंधित समाचार