मनमोहन सिंह ने की संयुक्त राष्ट्र के विस्तार की मांग

मनमोहन सिंह इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption मनमोहन सिंह ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र को ‘विश्व की नई सच्चाईयों से रुबरू होना होगा.’

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने संयुक्त राष्ट्र की एक उच्चस्तरीय सभा में फ़लस्तीन की सदस्यता के प्रस्ताव का समर्थन करते हुए संयुक्त राष्ट्र के विस्तार की मांग की है.

इस मौके पर एक मज़बूत संयुक्त राष्ट्र के निर्माण पर ज़ोर देते हुए मनमोहन सिंह ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र को ‘विश्व की नई सच्चाईयों से रुबरू होना होगा.’

उन्होंने कहा, '' हमें एक ऐसे संयुक्त राष्ट्र की ज़रूरत है जो हर किसी की महत्वकांक्षाओं के प्रति संवेदनशील हो चाहे वह राष्ट्र छोटा हो, बड़ा हो, अमीर हो या फिर ग़रीब. इसके लिए ज़रूरी है कि संयुक्त राष्ट्र की महासभा और सुरक्षा परिषद का विस्तार हो और उनमें सुधार लागू हों.''

मनमोहन सिंह ने यह भी कहा आंतकवाद के खिलाफ़ कुछ चुनिंदा मुद्दों पर नहीं लड़ी जा सकती, इसे हर फलक और हर स्तर पर लड़ना होगा.

जी-4 देशों की बैठक में ब्राज़ील, जर्मनी और जापान के प्रतिनिधियों से बातचीत के बाद संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद में भारत को स्थाई सदस्यता दिए जाने की पैरवी करते हुए मनमोहन सिंह ने कहा कि विश्व को एक मज़बूत संयुक्त राष्ट्र की ज़रूरत है.

मनमोहन सिंह ने यह भी कहा कि विश्वभर की अर्थव्यवस्थाओं के बढ़ते संकट और इससे विकासशील देशों के लिए पैदा हुए खतरों को लेकर वे बेहद चिंतित हैं.

उन्होंने कहा कि ‘विश्व-अर्थव्यवस्था संकट में हैं’ और 2008 के मुकाबले यह संकट और गहरा गया है.

संयुक्त राष्ट्र में फ़लस्तीन की सदस्यता के प्रस्ताव के औपचारिक समर्थन से पहले प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने फ़लस्तीनी नेता महमूद अब्बास को एक चिट्ठी लिखकर कहा था कि फ़लस्तीन के साथ भारत के रिश्ते ऐतिहासिक हैं और भारत फ़लस्तीनी लोगों के संप्रभू, स्वतंत्र और व्यावहारिक राष्ट्र के लिए किए जा रहे संघर्ष का समर्थन करता है.

संबंधित समाचार