चिदंबरम महत्वपूर्ण सहयोगी हैं: प्रणब मुखर्जी

  • 25 सितंबर 2011
इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption वित्त मंत्रालय के नोट के कारण चिदंबरम पर गंभीर आरोप लग रहे हैं.

2 जी मामले में गृह मंत्री चिदंबरम को लेकर उपजे विवाद के बाद वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने प्रधानमंत्री से न्यूयॉर्क में मुलाक़ात की है लेकिन 2 जी मामले पर कुछ भी कहने से इंकार कर दिया.

प्रधानमंत्री से बैठक के बाद वित्त मंत्री मुखर्जी ने संवाददाताओं से बातचीत की लेकिन चिदंबरम और 2 जी से जुड़े मुद्दे पर उन्होंने कोई टिप्पणी नहीं की.

इस बारे में पूछे जाने पर उनका कहना था, ‘‘ 2 जी मामला कोर्ट में हैं. इसलिए इस पर कुछ कहना उचित नहीं है. चिदंबरम हमारे अच्छे साथी हैं और मैं उनसे और पार्टी के अन्य नेताओं से बातचीत कर के ही कुछ कह सकूंगा.’’

उल्लेखनीय है कि वित्त मंत्रालय के एक नोट में यह कहा गया था कि अगर तत्कालीन वित्त मंत्री चिदंबरम चाहते तो 2जी घोटाला रोका जा सकता था. इस नोट पर प्रणब मुखर्जी के हस्ताक्षर हैं.

इस नोट के लीक होने के बाद यूपीए सरकार विपक्ष के निशाने पर है और कहा जाता है कि प्रणब मुखर्जी वाशिंगटन की अपनी यात्रा बीच में छोड़कर प्रधानमंत्री से मिलने न्यूयॉर्क पहुंचे थे.

हालांकि प्रणब मुखर्जी ने कहा कि वो अपनी यात्रा बीच में छोड़कर प्रधानमंत्री से मिलने नहीं आए हैं. उनका कहना था कि प्रधानमंत्री न्यूयॉर्क में थे तो वो उनसे मिलने चले आए.

इससे पहले प्रधानमंत्री ने चिदंबरम का पूरा समर्थन किया था और कहा था कि विपक्ष का काम ही सरकार की आलोचना करना है और उन्हें अपने मंत्रियों पर पूरा विश्वास है.

माना जाता है कि अमरीका की यात्रा से लौटने के बाद प्रधानमंत्री और प्रणब मुखर्जी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाक़ात करेंगे.

सोनिया गांधी ने पूर्व में कहा था कि सरकार कोक एकजुट होकर चिदंबरम का समर्थन करना चाहिए.

संबंधित समाचार