'पद' के लिए नहीं आडवाणी की यात्रा: गडकरी

  • 29 सितंबर 2011
नितिन गडकरी
Image caption गडकरी ने मनमोहन सिंह सरकार को भ्रष्टाचार का दोषी बताया.

भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष नितिन गडकरी ने कहा है लालकृष्ण आडवाणी की यात्रा प्रधानमंत्री पद की होड़ के लिए नहीं की जा रही है.

उन्होंने कहा कि ये कहना महज़ अटकलबाज़ी है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ आडवाणी की यात्रा को समर्थन नहीं दे रहा है.

गडकरी ने कहा कि लालकृष्ण आडवाणी ने नागपुर में सरसंघचालक मोहन भागवत से मुलाक़ात के बाद स्पष्ट कर दिया था कि बीजेपी ने उन्हें प्रधानमंत्री पद से बहुत अधिक दिया है.

गडकरी ने कहा कि इस यात्रा के ज़रिए लालकृष्ण आडवाणी हिंदुस्तान में सुशासन लाने और भ्रष्टाचार ख़त्म करने का संदेश देंगे.

प्रधानमंत्री पद के लिए बीजेपी के कई नेता अपनी दावेदारी जता रहे हैं जिनमें गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम भी शामिल है.

नाराज़गी?

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption नरेंद्र मोदी केंद्रीय कार्यकारिणी की बैठक में नहीं आएँगे.

लेकिन ख़बर है कि उन्होंने कल से दिल्ली में शुरू होने वाली केंद्रीय कार्यकारिणी की बैठक में हिस्सा नहीं लेने का फ़ैसला किया है.

हालाँकि इसकी वजह बताई गई है कि वो नवरात्रि उपवास में व्यस्त रहेंगे लेकिन इसे केंद्रीय नेतृत्व से उनकी नाराज़गी के तौर पर देखा जा रहा है क्योंकि उनकी रैली में बीजेपी का कोई केंद्रीय नेता शरीक नहीं हुआ था.

बीजेपी नेता अरुण जेटली ने कुछ ही दिन पहले कहा था कि प्रधानमंत्री पद के लिए भारतीय जनता पार्टी में बराबर के कई लोगों में सबसे बेहतरीन व्यक्ति आगे आएगा.

पार्टी कार्यकारिणी की महत्वपूर्ण बैठक से एक दिन पहले गडकरी ने मनमोहन सिंह सरकार को भ्रष्टाचार के मुद्दे पर कठघरे में खड़ा करने की कोशिश की.

वोट के बदले नोट मामले में आडवाणी के पूर्व सहयोगी सुधींद्र कुलकर्णी की गिरफ़्तारी को उन्होंने ग़लत बताया.

'लोकतंत्र का दुर्भाग्य'

इमेज कॉपीरइट BJP
Image caption बीजेपी में प्रधानमंत्री पद के कई दावेदार हैं.

उन्होंने कहा कि ये लोकतंत्र का दुर्भाग्य है कि जिन्होंने नोट के बदले वोट कांड का पर्दाफ़ाश किया, सरकार ने उन्हीं के ख़िलाफ़ एफ़आइआर दर्ज करके उन्हें जेल भिजवाया है.

बहरहाल बीजेपी अध्यक्ष ने मनमोहन सिंह और सोनिया गाँधी का नाम तो नहीं लिया लेकिन बहुत स्पष्ट तरीक़े से नोट के बदले वोट कांड के लिए उन्हें ज़िम्मेदार ठहराया.

गडकरी ने कहा कि भ्रष्टाचार का पर्दाफ़ाश करने वालों के ख़िलाफ़ सरकार की कार्रवाई पर लालकृष्ण आडवाणी बहुत व्यथित हुए और इसीलिए उन्होंने सुशासन और स्वच्छ प्रशासन के लिए देश के 18 राज्यों और तीन केंद्र शासित प्रदेशों में यात्रा निकालने का फ़ैसला किया.

उन्होंने बताया कि आडवाणी की पदयात्रा को बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार हरी झंडी दिखाएंगे. ये यात्रा लोकनायक जयप्रकाश नारायण के जन्म स्थान सिताब दियरा से शुरू की जाएगी.

संबंधित समाचार