तेलंगाना के समर्थन में राजघाट पर धरना

तेलंगाना इमेज कॉपीरइट AP
Image caption तेलंगाना के समर्थन में आंध्र प्रदेश के 10 ज़िलों में आंदोलन जारी है.

आंध्र प्रदेश से अलग तेलंगाना राज्य के समर्थन में प्रदेश में पिछले 20 दिनों से जारी हड़ताल के बीच, तेलंगाना राष्ट्रीय समीति अध्यक्ष के चंद्रशेखर राव ने दिल्ली के राजघाट पर धरना शुरू कर दिया है.

के चंद्रशेखर राव दोपहर में अपने कुछ समर्थकों के साथ भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की समाधि पर पहुंचे हैं और सांकेतिक धरने पर बैठ गए हैं.

दो अक्तुबूर को ही महात्मा गांधी का जन्म हुआ था. सुबह से ही राजघाट पर नेताओं के जाने का सिलसिला जारी है.

चंद्रशेखर राव और तेलंगाना पर बनी ज्वाइंट एक्शन कमीटि दिल्ली में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज से भी मिल सकते हैं.

आंदोलन

अंग्रेज़ी अख़बार 'द हिंदू' को दिए गए एक साक्षात्कार में चंद्रशेखर राव के पुत्र ने कहा है कि प्रदेश के मुख्यमंत्री किरन राव केंद्र को भ्रम में रखे हुए हैं जबकि प्रदेश में हालात बिगड़ते जा रहे हैं और अगर आंदोलन हाथ से निकल गया तो उसे क़ाबू में लाना मुश्किल होगा.

ये पहली बार नहीं है जब चंद्रशेखर राव पूर्व हैदराबाद रियासत के इलाकों को मिलाकर आंध्र प्रदेश से अलग तेलंगाना राज्य की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. पहले वो पंद्रह से अधिक दिनों के भूख हड़ताल पर रहे थे.

इस बीच केंद्र की मनमोहन सरकार में वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी ने कहा है कि अलग राज्य के निर्माण पर और बातचीत की ज़रूरत है.

बैठक

शनिवार को दिल्ली में इसी मामले पर प्रणव मुखर्जी, स्वास्थ्य मंत्री ग़ुलाम नबी आज़ाद और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार अहमद पटेल की एक बैठक हुई.

कांग्रेस के लिए मुश्किल है कि प्रदेश में उसकी सरकार है और आंध्र प्रदेश के दूसरे इलाक़े जैसे रायलसीमा के नेता अलग राज्य की मांग का विरोध कर रहे हैं.

ख़बर है कि ग़ुलाम नबी आज़ाद आज इसी सिलसिले में आंध्र प्रदेश के दौरे पर हैं.

संबंधित समाचार