बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री भागवत झा का निधन

  • 4 अक्तूबर 2011

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री भागवत झा आज़ाद का दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में निधन हो गया है.

क्रिकेटर कीर्ति आज़ाद के पिता भागवत झा पिछले कुछ समय से बीमार चल रहे थे और एम्स में भर्ती थे.

एम्स से मिली जानकारी के अनुसार उनका निधन रात एक बजकर चालीस मिनट पर हुआ.

भागवत झा 'आज़ाद' फ़रवरी 1988 से लेकर जनवरी 1989 तक लगभग ग्यारह महीने बिहार के मुख्यमंत्री पद पर रहे.

केंद्र सरकार में भी वह इंदिरा गाँधी और राजीव गाँधी के मंत्रिमंडल में राज्यमंत्री थे.

वह 1957 से 1989 के बीच भागलपुर संसदीय क्षेत्र से लगातार सांसद चुने जाते रहे.

वह कुछ समय तक इंदिरा गाँधी के राजनीतिक सचिव भी रहे, जब गाँधी कांग्रेस अध्यक्ष पद पर थीं.

बिहार के गोड्डा ज़िला निवासी भागवत झा आज़ाद की राजनीतिक सक्रियता अपने प्रदेश से अधिक केन्द्रीय स्तर पर ही देखी जाती थी.

लेकिन बिहार के तत्कालीन 'सहकारिता माफ़िया' के ख़िलाफ़ चलाए गए उनके अभियान की चर्चा आज भी होती है.

ओजस्वी वक्ता, रोब-दाब वाला जुझारू व्यक्तित्व, किसी के भी मुँह पर खरी-खरी सुना देने जैसा साहसिक खुलापन और साहित्य से लगाव - ये सब गुण उनकी ख़ास पहचान में शामिल थे.

उनकी लिखी कई कविताएँ प्रकाशित हुईं और कई विषयों पर उन्होंने लेख भी लिखे.

उनके नाम के साथ लगा हुआ ' आज़ाद' बहुत हद तक उनकी जीवन-शैली और सोच-समझ के अनुकूल दिखता रहा.

कांग्रेस पार्टी के साथ लम्बे-गहरे रिश्ते को भी झटकने में उन्हें देर नहीं लगी, जब 1998 में उन्होंने भारतीय जनता पार्टी का दामन थामा.

हालांकि भाजपा में वह बहुत सक्रिय और सहज नहीं रहे, फिर भी कांग्रेस में नहीं लौटे.

इनके तीन पुत्रों में से एक- कीर्ति आज़ाद भाजपा के ही सांसद हैं.