क़साब की फाँसी पर 'फ़िलहाल रोक'

अजमल आमिर क़साब इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption क़साब की फाँसी की सज़ा पर उच्चतम न्यायालय में सुनवाई होगी

उच्चतम न्यायालय ने मुंबई हमलों के मामले में फाँसी की सज़ा पाए अजमल आमिर क़साब की सज़ा पर फ़िलहाल रोक लगा दी है.

ये सामान्य वैधानिक प्रक्रिया का हिस्सा है क्योंकि क़साब ने बम्बई उच्च न्यायालय के फ़ैसले के विरुद्ध उच्चतम न्यायालय में अपील की है और न्यायालय को सुनवाई से पहले उनकी सज़ा पर रोक लगानी थी.

साथ ही न्यायालय ने महाराष्ट्र सरकार को नोटिस जारी किया है.

मुंबई में 26 नवंबर 2008 को हुए हमलों के मामले में क़साब मुख्य अभियुक्त हैं.

इससे पहले दो सितंबर को उच्चतम न्यायालय इसी मामले में फ़हीम अंसारी और सबाउद्दीन अहमद को बरी करने के ख़िलाफ़ महाराष्ट्र सरकार की अपील पर सुनवाई करने को तैयार हो गया था.

बंबई उच्च न्यायालय ने 21 फ़रवरी को निचली अदालत के फ़ैसले को बरक़रार रखा था जिसके तहत क़साब को मौत की सज़ा दी गई थी.

क़साब की सज़ा-ए-मौत आपराधिक षड्यंत्र, देश के विरुद्ध संघर्ष छेड़ने और हत्या तथा अवैध कामों के मामले में भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत सही मानी गई थी.

निचली अदालत ने फ़हीम और सबाउद्दीन को रिहा कर दिया था.

संबंधित समाचार