दिग्विजय का ख़त अन्ना के नाम

दिग्विजय इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption दिग्विजय सिंह पहले से ही अन्ना हज़ारे पर प्रहार किया है.

कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने भ्रष्टाचार-विरोधी मुहिम चला रहे अन्ना हज़ारे को एक खुली चिट्ठी लिखकर कहा है कि अगर उनकी ख़्वाहिश राजनीतिक प्रक्रिया में शामिल होने की है तो वे इसमें खुलकर हिस्सा लें.

अन्ना हज़ारे और उनकी टीम के सदस्य अरविंद केजरीवाल ने हिसार चुनाव में कांग्रेस पार्टी के ख़िलाफ़ खुला अभियान चला रखा है.

दिग्विजय सिंह का ख़त उनके इस आरोप के ठीक बाद आया है, जिसमें उन्होंने दावा किया है कि अन्ना हज़ारे को भारतीय जनता पार्टी की ओर से राष्ट्रपति बनाए जाने का भरोसा दिलाया गया है.

हालांकि अपने ख़त में उन्होंने ये भी लिखा है कि अन्ना हज़ारे को कांग्रेस विरोधी लोगों ने घेर रखा है.

दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया है कि उनकी टीम में शामिल शांति भूषण, प्रशांत भूषण और अरविंद केजरीवाल अन्ना हज़ारे का इस्तेमाल अपने राजनीतिक फ़ायदे के लिए कर रहे हैं.

कांग्रेस विरोधी

उन्होंने कहा है कि अन्ना ने कभी भी भाजपा के ख़िलाफ़ एक शब्द नहीं बोला है, जबकि भाजपा ने विदेशों में जमा भारत के काले धन को स्वदेश वापस लाने के लिए कुछ नहीं किया है.

ख़त में लिखा गया है, "कांग्रेस ने भ्रष्टाचार के विरूद्ध कई अहम क़दम उठाए हैं. सूचना के अधिकार के लिए क़ानून पास करने से लेकर भ्रष्टाचार के मामले में जिनका नाम आया उन मंत्रियों को जेल भेजने तक में कांग्रेस ने हमेशा दृढ़ता से क़दम उठाया है. सरकार लोकपाल क़ानून को पारित करवाने के लिए प्रतिबंद्ध है. आपने कांग्रेस-विरोधी रवैया क्यों अपना रखा है?"

शुरू से अन्ना हज़ारे के आंदोलन को राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ-बीजेपी का प्रायोजित कार्यक्रम बताते रहे कांग्रेस महासचिव ने फिर से अन्ना से सवाल उठाया है कि हालांकि आप अपने मुहिम में इन संस्थाओं के शामिल होने की बात से नकारते हैं, आरएसएस ने बयान दिया है कि वो इसका हिस्सा था.

अन्ना हज़ारे और दिग्विजय सिंह के बीच बयानबाज़ियों का ये दौर काफ़ी दिनों से चल रहा है. एक बार तो अन्ना हज़ारे ने झल्लाकर कह दिया था कि दिग्विजय सिंह को पागलख़ाने भेज देना चाहिए.

संबंधित समाचार