'बर्मा में लोकतांत्रिक प्रक्रिया का समर्थन'

राष्ट्रपति सेन इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption बर्मा के राष्ट्रपति बोधगया और कुशीनगर भी गए

भारत ने कहा है कि बर्मा की सरकार ने लोकतंत्र की तरफ़ जो क़दम उठाये हैं उनपर भारत की नज़र है और वो इस प्रक्रिया का समर्थन भी करता है.

विदेश मंत्रालय अधिकारियों के मुताबिक़ भारत बर्मा के उस क़दम पर भी ध्यान दे रहा हैं जिसमें उसने राजनीतिक सुधार की तरफ़ अहम क़दम उठाए हैं.

भारत ने इस प्रक्रिया को और मज़बूत बनाने के लिए बर्मा के एक संसदीय दल को भारत आने का न्योता भी दिया है.

बर्मा के राष्ट्रपति थियन सेन इन दिनों भारत यात्रा पर हैं और शुक्रवार को प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के साथ उनकी लंबी बातचीत होने वाली है.

भारतीय विदेश मंत्रालय प्रवक्ता विष्णु प्रकाश ने कहा, "राष्ट्रपति थियन सेन की यह तीसरी भारत यात्रा है. वो पहले भी एक सचिव और प्रधानमंत्री के तौर पर यहाँ आ चुके हैं. पिछले वर्ष तक भारत और बर्मा में करीब डेढ़ अरब डॉलर का आपसी व्यापार था और हम उसे 2015 तक बढ़ा कर तीन अरब डॉलर तक पहुंचाना चाहते हैं."

विदेश मंत्रालय प्रवक्ता ने इस बात को भी दोहराया कि बर्मा ने भारत को आश्वासन दिया है कि उसके देश से भारत के खिलाफ घुसपैठ की घटनाएं नहीं होने दी जाएँगी.

अहम यात्रा

बर्मा के राष्ट्रपति की यात्रा की एक और ख़ास बात है उनके दल में बर्मा के 13 शीर्ष मंत्रियों का शामिल रहना. भारत ने इसे बर्मा के असैनिक राष्ट्रपति की 'पहली यात्रा' क़रार दिया है. विदेश मंत्रालय में बर्मा मामलों पर संयुक्त सचिव हर्ष श्रृंगला ने इस बात का भी उल्लेख किया है कि भारत बर्मा में जनतंत्र समर्थक नेता आंग सान सू ची से भी संपर्क में रहा है. हर्ष श्रृंगला ने बताया, "बर्मा की मौजूदा सरकार ने कई सार्थक क़दम उठाए हैं जिसमे संयुक्त राष्ट्र दूत को अपने देश में आने की इजाज़त है और क़रीब 30,000 वेबसाइटों पर से रोक हटा लेना है. भारत भी बर्मा की लोकतांत्रिक प्रक्रिया में मदद करने को तैयार है." पत्रकारों के इस सवाल पर कि क्या बर्मा से संबंधों को लेकर भारत और चीन में प्रतिद्वंदता है, विदेश मंत्रालय प्रवक्ता ने इस सवाल को खारिज कर दिया.

विष्णु प्रकाश ने कहा, "कोई मुक़ाबला नहीं चल रहा है. हम सभी स्वतंत्र देश हैं और अपनी-अपनी विदेश नीति का निर्वाहन करते हैं." बर्मा के राष्ट्रपति थियन सेन की भारत यात्रा इसलिए भी अहम बताई जा रही है क्योंकि बर्मा के साथ चार भारतीय राज्यों की सीमाएं भी हैं.

संबंधित समाचार