कुडनकुलम पर जयललिता ने केंद्र को घेरा

  • 18 अक्तूबर 2011
कुडनकुलम इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption कुडनकुलम संयंत्र पर काम रुका पड़ा है.

कुडनकुलम परमाणु ऊर्जा संयंत्र मामले में केंद्र पर कोई कार्रवाई ना करने का आरोप लगाते हुए तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता ने कहा कि उनकी सरकार लोगों की चिंताओं के दूर होने तक वहां काम बंद रखने के हक़ में है.

एक बयान में जयललिता ने कहा कि केंद्र सरकार कुडनकुलम के स्थानीय लोगों की चिंताओं को दूर करने के लिए कुछ ख़ास नहीं कर रही है.

जयललिता ने प्रधानमंत्री कार्यालय में मंत्री वी. नारायणसामी के उस बयान पर भी आपत्ति जताई है जिसमें नारायणसामी ने कहा था कि केंद्र प्रधानमंत्री द्वारा सुझाई गई ‘एक्पर्ट कमेटी’ के गठन के बारे राज्य सरकार के जवाब का इंतज़ार कर रहा है.

लेकिन वी. नारायणसामी ने मंगलवार को दिल्ली में कहा कि केंद्र सरकार स्थानीय लोगों की चिंताओं को दूर करेगी.

नारायणसामी ने कहा, “हम मुख्यमंत्री के नज़रिए की क़द्र करते हैं. लोगों की चिंताओं करना केंद्र की ज़िम्मेदारी है. हम इससे पीछे नहीं हट रहे हैं. हमें मुख्यमंत्री और तमिलनाडु सरकार का पूरा सहयोग मिल रहा है. दोनों सरकारों के बीच कोई मतभेद नहीं है.”

जयललिता ने कड़ा किया रुख़

जयललिता ने नारायणसामी के बयान को राज्य सरकार पर आरोप थोपने का कोशिश बताया है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस मंत्री को लोगों की चिंताएं दूर करने के लिए भेजा गया था उसने इस दिशा में कोई क़दम नहीं उठाया है.

जयललिता ने कहा, “इस बात पर संदेह होता है कि केंद्र गतिरोध के लिए राज्य सरकार पर आरोप मढ़ना चाहता है. लोगों को भूख हड़ताल जैसे तरीकों से विरोध करना पड़ रहा है क्योंकि केंद्र ऊर्जा संयंत्र पर काम स्थगित नहीं कर रहा है. ”

जयललिता ने कहा कि प्रधानमंत्री से आश्वासन मिलने के बावजूद केंद्र अबतक कोई क़दम नहीं उठाया है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार