बेबुनियाद हैं अग्निवेश के आरोप: टीम अन्ना

इमेज कॉपीरइट agency

अन्ना हज़ारे के सहयोगियों ने स्वामी अग्निवेश के आरोपों को खारिज किया है. स्वामी अग्निवेश ने आरोप लगाया था कि अन्ना के आंदोलन के दौरान लोगों ने जो पैसे दान में दिए थे उसका दुरुपयोग हुआ है.

टीम अन्ना का कहना है कि इस महीने के अंत तक खाते की जानकारी पब्लिक कॉज़ रिसर्ज फ़ाउंडेशन ( पीसीआरएफ़) की वेबसाइट पर डाली जाएगी.

इससे पहले स्वामी अग्निवेश ने कहा था कि अन्ना ख़ुद पैसों को लेकर चिंतित थे और सितंबर में रालेगाँव सिद्धी में उन्होंने कहा था कि वे चाहते हैं कि सभी खातों की जानकारी वेबसाइट पर डाली जाए.

जबकि अन्ना हज़ारे के सहयोगी मनीश सिसोदिया ने कहा है कि अन्ना को सभी चीज़ों की जानकारी है.

रविवार को पत्रकारों से बातचीत में उनका कहना था, “अन्ना जानते हैं कि कितना पैसा आ रहा है, 31 मार्च तक के अकाउंट पहले ही वेबसाइट पर आ चुके हैं. अब अन्ना की सलाह पर 30 सितंबर तक यानी छह महीने का ऑडिट किया जा रहा है.”

स्वामी अग्निवेश पर उनका कहना था कि उन्होंने ऐसा ग़ुस्से में कहा होगा और उनके प्रति कोई नाराज़गी नहीं है.

अन्ना हज़ारे के अनशन के दौरान स्वामी अग्निवेश भी टीम के सदस्य थे लेकिन बाद में अलग हो गए थे. पिछले कुछ महीनों में अग्निवेश और टीम अन्ना के कुछ मतभेद रहे हैं.

इससे पहले अन्ना टीम की प्रमुख सदस्या किरण बेदी पर भ्रष्‍टाचार के आरोप लगाए गए थे.किरण बेदी पर आरोप है कि वह कथित तौर पर उन एनजीओ और संस्‍थाओं से ज़्यादा बिल वसूल रही हैं, जो उन्‍हें सेमिनार या बैठकों में बुलाते रहे हैं.

संबंधित समाचार