नरोडा पटिया दंगे के चश्मदीद की हत्या

  • 5 नवंबर 2011
इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption नदीम अहमद सैयद का बयान अदालत ने हाल ही में दर्ज किया था

कांग्रेस कार्यकर्ता और वर्ष 2002 में गुजरात दंगों के दौरान नरोदा पटिया में हुए दंगे के चश्मदीद नदीम अहमद सैयद की हत्या कर दी गई है.

वह सूचना अधिकार के कार्यकर्ता भी थे और उन्होने गोधरा दंगों पर सूचना अधिकार के तहत कई सवाल पूछे थे.

शनिवार सुबह करीब सात बजे अहमदाबाद के जुहापुरा इलाक़े में चार अज्ञात हमलावरों ने चाकू में उन पर कई वार किए.

समाचार एजेंसियों के मुताबिक सैयद को उनके घर वालों ने तुरंत अस्पताल पंहुचाया जहां डॉक्टरों नें उन्हें मृत घोषित कर दिया.

पुलिस का कहना है कि हमलावर जुर्म को अंजाम देकर भाग गए और उनकी पहचान नहीं हो सकी है.

सैयद 28 फ़रवरी 2002 के नरोदा पटिया दंगे के प्रत्यक्षदर्शी थे. गोधरा कांड के बाद भड़के इस दंगे में 95 लोग मारे गए थे.

कुछ महीने पहले अदालत ने सैयद का बयान दर्ज किया था.

संबंधित समाचार